Cabinet Meeting: मंगलवार को शिवराज कैबिनेट बैठक, इन 2 बड़े प्रस्तावों को मिलेगी मंजूरी!

मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री का स्वेच्छानुदान पिछले साल की तुलना में ज्यादा यानि 200 करोड़ रुपये प्रतिवर्ष होगा ।

सीएम शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। 28 जून 2022 को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) की अध्यक्षता में अहम कैबिनेट बैठक (Shivraj Cabinet Meeting Today) होने जा रही है। इस बैठक में कई महत्वपूर्ण प्रस्ताव (Proposal) रखें जाएंगे, जिन पर चर्चा की जाएगी और फिर मंजूरी दी जाएगी। इसमें सबसे खास मुख्यमंत्री और विधायकों का स्वेच्छानुदान होगा।

यह भी पढ़े.. कर्मचारियों को CM का बड़ा तोहफा, अगस्त से लागू होगी राज्य में पुरानी पेंशन योजना, इन्हें मिलेगा लाभ

मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री का स्वेच्छानुदान पिछले साल की तुलना में ज्यादा यानि 200 करोड़ रुपये प्रतिवर्ष होगा ।यह वर्ष 2021-22 में 110 करोड़ रुपये था, जिसमें अनुपूरक बजट के माध्यम से 16 करोड़ 80 लाख रुपये का अतिरिक्त प्रविधान किया गया था। स्वेच्छानुदान से उपचार के लिए सबसे ज्यादा राशि दी जाती है। वही विधायकों, कलेक्टरों सहित अन्य माध्यमों से सीएम हाउस प्रकरण भेजे जाते है और प्राथमिकता के आधार पर राशि स्वीकृत करके सीधे संबद्ध अस्पतालों को भेजी जाती है।

वही दुर्घटनाओं में मृतक और गंभीर रूप से बीमार के उपचार के लिए भी स्वेच्छानुदान से ही राशि स्वीकृत की जाती है।सामान्य प्रशासन विभाग के प्रस्ताव पर वित्त विभाग ने भी सहमति दे दी है। अब इसे अंतिम निर्णय के लिए कैबिनेट में प्रस्तुत किया जाएगा। इस पर मुहर लगते ही यह प्रभावशील हो जाएगा।

यह भी पढ़े.. MPPSC 2020: उम्मीदवारों के लिए आखरी मौका, 111 पदों पर होनी है भर्ती, जल्द करें एप्लाई

इसके अलावा सीएम शिवराज सिंह चौहान द्वारा बजट में घोषणा के बाद अब सभी विधायकों के स्वेच्छानुदान में भी इस बार इजाफा होने जा रहा है। संभावना जताई जा रही है कि विधायकों को निर्वाचन क्षेत्र विकास के लिए दी जाने वाली विधायक निधि इस बार 35 लाख रुपये की वृद्धि जा सकती है, जो अभी तक 15 लाख रुपये प्रतिवर्ष है। बता दे कि सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मार्च 2022 में विधानसभा में राज्यपाल मंगुभाई पटेल के अभिभाषण पर प्रस्तुत कृतज्ञता ज्ञापन पर चर्चा के दौरान विधायक निधि 1 करोड़ 85 लाख रुपये से बढ़ाकर ढाई करोड़ रुपये और स्वेच्छानुदान 15 लाख रुपये वार्षिक से बढ़ाकर 50 लाख रुपये किए जाने की घोषणा की थी।