भोपाल कलेक्टर

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।  मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल (Bhopal) कोरोना का कहर जारी है।आज 86 नए कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive)  मरीज सामने आने के बाद कुल एक्टिव केसों की संख्या 701 पहुंच गई है।लगातार बढ़ते आंकड़ों ने शासन- प्रशासन (Administration)की टेंशन बढ़ा दी है।इसी को देखते हुए भोपाल कलेक्टर (Bhopal Collector) ने सभी से अनिवार्य रुप से मास्क लगाने की अपील की है।इधर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhaan) ने साफ कर दिया है कि MP में दोबारा लॉकडाउन (Lockdown) नहीं लगाया जाएगा।

यह भी पढ़े.. Bhopal News: कोरोना ने बढ़ाई टेंशन, भोपाल कलेक्टर ने अधिकारियों को दिए यह निर्देश

भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया (Bhopal Collector Avinash Lavania)  ने भोपाल जिले के सभी नागरिकों से अपील की है कि कोरोना से बचाव की गाइड लाइन(Corona Guideline) का पालन करें और अनिवार्य रूप से मास्क लगायें। उन्होंने कहा कि कोरोना (Corona) अभी खत्म नहीं हुआ है। अभी कुछ समय में कोरोना संक्रमण से प्रभावित मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी हो रही है। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिये जरूरी है कि घर से बाहर निकलें तो मास्क अवश्य लगाएं, सार्वजनिक, भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें, चेहरे से मास्क (Mask) नहीं हटाएं।
भोपाल कलेक्टर ने कहा कि विशेषकर बात करते समय मास्क लगाये रखें, सार्वजनिक जगहों पर दो गज की दूरी (Social Distancing) बनाकर रखें, सर्दी, खांसी, बुखार आने पर कोरोना की जाँच तुरंत करायें एवं अन्य लोगों से दूरी बनाकर रखें। 60 साल से अधिक उम्र के सभी लोग वैक्सीन (Corona vaccine) लगवायें। इसके लिए आरोग्य सेतु एप और को-विन 2.0 पर अपना रजिस्ट्रेशन करायें और वैक्सीनेशन सेंटर पर नंबर आने पर वैक्सीन जरूर लगवायें। इसके साथ ही 45 वर्ष से 59 वर्ष के नागरिक जो किसी बीमारी से पीड़ित है वे सभी मेडीकल सर्टिफिकेट के साथ वैक्सीन लगवा सकते हैं।

यह भी पढ़े.. Indore News: MP में दोबारा लॉकडाउन लगाने पर क्या बोले शिवराज सिंह चौहान

 भोपाल कलेक्टर  लवानिया ने कहा कि  सभी स्कूल (School)-कॉलेज(College) के साथ शासकीय तथा गैर-शासकीय शैक्षणिक संस्थाओं (Government and non-government educational institutions) में सभी लोग सैनिटाइजर(Sanitizer) का उपयोग करें जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं के वाक्य का अनुसरण करें। उसके साथ ही दवाई भी और कड़ाई भी को आत्म सात करें। उन्होंने कहा कि उम्मीद है यदि हम सब इन नियमों का पालन करेंगे तो परिवार और अन्य लोगों को संक्रमण से बचा सकेंगे और कोरोना संक्रमण की गति को भी रोक पाएंगे।

 

डेंगू और मलेरिया लार्वा की जांच भी जारी

वही भोपाल के विभिन्न क्षेत्रों, अति संवेदनशील क्षेत्रों, स्लम एरिया और अन्य बस्तियों में डेंगू लार्वा(dengue larvae), मलेरिया (Malaria), रैपिड टेस्ट, ब्लड स्लाइड कलेक्शन और कोरोना से बचाव की जानकारी आदि का कार्य व्यापक स्तर पर किया जा रहा है। भोपाल जिले में 811 लोगों की रेपिड टेस्ट से मलेरिया की जाँच की गई। जिनमें भोपाल शहर में 646 और बैरसिया में 70 से अधिक लोगों की मलेरिया जांच के लिए नमूने लिए गए।

यह भी पढ़े.. मप्र निकाय चुनाव 2021: चुनाव आयोग का बड़ा बयान- मार्च में ही होगा तारीखों का ऐलान

भोपाल के विभिन्न क्षेत्रों में डेंगू के लार्वा के लिए 29 टीमों का दल नियुक्त किया गया है जिनके द्वारा 1016 घरों का सर्वे कर किया गया और 16 घरों में लार्वा पाया गया। अलग अलग जगहों पर 8 हजार से अधिक बर्तनों में लार्वा सर्वे किया गया, जिसमें केवल 16 बर्तनों में लार्वा पाया गया। डेंगू के लार्वा को टेमोफॉस डाल कर नष्ट किया गया।