60 हजार के करीब एक्टिव केस, शिवराज सिंह चौहान बोले- नियुक्त होंगे नोडल अधिकारी

शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आज शुक्रवार को मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में 11045 नए कोरोना पॉजिटिव (Coronavirus) सामने आए है और 60 की मौत हो गई। 2 दर्जन से ज्यादा जिलों में संडे टोटल लॉकडाउन (Lockdown 2021) और कोरोना कर्फ्यू के बावजूद तेजी से बढ़ते आंकड़ों ने मप्र सरकार (MP Government) की चिंता बढ़ा दी है।वही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने साफ कहा है कि सभी बड़े शासकीय और निजी अस्पतालों में बिस्तरों की व्यवस्था और जन-सामान्य को इसकी जानकारी उपलब्ध कराने के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किए जाएंगे।

यह भी पढ़े.. मप्र के वरिष्ठ BJP नेता और पूर्व विधायक का निधन, पार्टी में शोक लहर

दरअसल, आज कोरोना संक्रमण नियंत्रण पर केन्द्रित एक वीडियो कॉन्फ्रेंस मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कहा कि यह व्यवस्था सभी जिलों में भी लागू होगी। निजी अस्पतालों (Government and Private Hospital) को अपने दूरभाष क्रमांक और उपलब्ध बिस्तरों की जानकारी प्रदर्शित करना आवश्यक होगा। कोविड प्रभावित व्यक्तियों को इलाज के संबंध में आवश्यक मार्गदर्शन तथा अस्पतालों की जानकारी सरलता से मिले, इसके लिए आवश्यक व्यवस्था विकसित की जाएगी। जिला स्तर पर प्रभारी मंत्री इस व्यवस्था का समन्वय करेंगे।

यह भी पढ़े.. विधायक निधि: कोरोना संकटकाल में मप्र सरकार का बड़ा फैसला, कलेक्टरों को निर्देश जारी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि रेमडेसिविर इंजेक्शन (Remedicivir Injection) के लिए 50 हजार इंजेक्शन के कार्यादेश जारी किए जा चुके हैं। सनफार्मा द्वारा 20 हजार, मायलोन कम्पनी द्वारा 3 हजार इंजेक्शन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। सिपला, जायडस आदि से भी इंजेक्शन प्राप्त किए जाएंगे। इसके अतिरिक्त एक लाख इंजेक्शन की और व्यवस्था की जा रही है। सरकारी और निजी अस्पतालों में बिस्तरों की कुल संख्या बढ़कर 38 हजार 626 हो गई है। प्रशासन आकदमी में 150, हमीदिया अस्पताल में 300, चिरायु में 300 और एम्स में 500 बिस्तर की व्यवस्था की जा रही है।

होम आइसोलेशन से दिन में 2 बार बात करें डॉक्टर

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि व्यापक टेस्टिंग व्यवस्था, 24 घंटे में टेस्ट रिपोर्ट देने, होम आयसोलेशन में रह रहे मरीजों का कमाण्ड एण्ड कंट्रोल सेंटर से डॉक्टर द्वारा टेलिमेडिसिन के माध्यम से दिन में दो बार सुपरविजन सुनिश्चित करने और मरीजों को आवश्यक रूप से मेडिकल किट उपलब्ध कराया जा रहा है। बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इस व्यवस्था को और सुदृढ़ किया जा रहा है।

केन्द्र से मांगी ऑक्सीजन

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि Oxygen की उपलब्धता की स्थिति अब तेजी से सामान्य होती जा रही है। ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से भी निवेदन किया गया है। प्रदेश में 8 अप्रैल को जहाँ 130 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उपलब्ध थी, वह अब बढ़कर आज 16 अप्रैल को 336 मीट्रिक टन हो गई है। यह 20 अप्रैल तक 445 मीट्रिक टन और 25 अप्रैल तक 565 मीट्रिक टन हो जाएगी। भिलाई, बोकारो, राउरकेला, जमशेदपुर आदि से ऑक्सीजन लाने के लिए पर्याप्त टैंकरों की व्यवस्था की जा रही है। जिन जिलों में मरीजों की संख्या अधिक है, वहाँ त्वरित रूप से ऑक्सीजन पहुँचाई जाएगी।

वीडियो कॉन्फ्रेंस में जानकारी दी गई कि प्रदेश में संचालित 720 फीवर क्लीनिक पर लगातार टेस्टिंग प्रक्रिया जारी है। आज 49 हजार 900 टेस्ट हुए। प्रदेश के सभी जिलों में कोविड केयर सेंटर का संचालन आरंभ हो गया है। इन सेंटरों में 5,328 बेड की व्यवस्था की जा चुकी है। कोविड केयर सेंटर के संचालन के संबंध में जन-सामान्य से निरंतर फीडबैक लेने की व्यवस्था की गई है।