उप चुनाव की तैयारी में कांग्रेस, झाबुआ में कैबिनेट मंत्री करेंगे भव्य रैली

congress-in-busy-for-by-poll-on-jhabua

भोपाल। मध्य प्रदेश में लोकसभा चुनाव में झाबुआ-रतलाम लोकसभा सीट से बीजेपी प्रत्याशी जीएस डामोर की जीत के बाद झाबुआ विधानसभा सीट खाली हुई थी। लोकसभा नतीजों के बाद बीजेपी और कांग्रेस दोनों में झाबुआ सीट को लेकर अब टक्कर चल रही है। झाबुआ सीट से बीजेपी विधायक जीएस डामोर के सांसद बनने के बाद अब कांग्रेस यहां जीत की तलाश में भव्य रैली करने जा रही है। 

कमलनाथ के खास कहे जाने वाले PWD मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने मीडिया से चर्चा में कहा कि हम झाबुआ सीट जीत रहे हैं और कांग्रेस के खाते में एक सीट का और इज़ाफा होने वाला है। मैं झाबुआ में 15 जुलाई को भव्य रैली करने जा रहा हूं। झाबुआ कांग्रेस की पारंपरिक सीट मानी जाती है। लेकिन 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने इस सीट पर कांतिलाल भूरिया के बेटे विक्रांत भूरिया को हरा दिया था। यहां से जीएस डामोर जीते थे। लेकिन बीजेपी ने उन्हें लोकसभा चुनाव टिकट देकर संसद भेज दिया है। जिस वजह से अब इस सीट पर उप चुनाव होने हैं। फिलहाल कांग्रेस के खाते में 114 और बीजेपी के पास 108 विधायक हैं। 

शुक्रवार को बीजेपी विधायक नरोत्तम मिश्रा के बयान से भूचाल आ गया था। उन्होंने कहा था कि मध्य प्रदेश में मानसून गोवा होते हुए आ रहा है और यहां की राजनीति में भी बड़ा बदलाव हो सकता है। उनके बयान पर पलटवार करते हुए वर्मा ने कहा कि मध्य प्रदेश में मानसूम बंगाल से होते हुए आएगा और प्रदेश में अच्छी बारिश होगी। साथ ही सरकार भी पूरे पांच साल चलेगी। हमें 121 विधायकों का समर्थन प्राप्त है और हमारी सरकार पर किसी भी तरह का कोई संकट नहीं है। गौरतलब है कि कांग्रेस सरकार को दो बसपा, एक सपा और चार निर्दलीय विधायकों का समर्थन मिला है। बीजेपी की इन विधायकों पर नज़र है। हीं, बीजेपी नेताओं का कहना है कि विधायक खुद अगर हमारी पार्टी में शामिल होना चाहें तो उनका स्वागत है।