digivjay-singh-statement-on-kashmir-issue

भोपाल। कश्मीर में आतंकी हमले को लेकर केंद्र सरकार ने सेना तैनात कर दी है। टूरिस्ट और अमरनाथ यात्रा पर गए यात्रियों को भी वापस आने की हिदायत दी गई है। कश्मीर मामले पर अब राजनीति भी गरमा गई है। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राज्य सभा सांद दिग्विजय सिंह ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंंने कहा कि केंद्र सरकार कश्मीर में कुछ बड़ा करने जा रही है। उन्होंने कहा कि अगर कश्मीर में जबरदस्ती करने का प्रयास किया गया तो इसके नतीजे अच्छे नहीं होंगे। दिग्विजय सिंह सीहोर में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने गए थे। 

उन्होंंने कहा कि अमरनाथ यात्रा करने से भी यात्रियों को रोका गया। यह उनके साथ अन्याय है। कश्मीर में इतना अधिक फोर्स क्यों भेजा जा रहा है। वहां के लोग दहशत में है। यह सब इमरजेंसी (आपातकाल) जैसे हालात लग रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस संबंध में केंद्र सरकार को स्पष्ट करना चाहिए। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि ऐसा करने से आतंकवाद रुकेगा, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। ऐसा कौन सा पहाड़ टूट रहा था कि 30 हजार से ज्यादा अतिरिक्त सैनिक भेजे गए। ऐसा लगता है कि ये वहां कोई बड़ा करना चाहते हैं, जिसके लक्षण नजर आ रहे हैं। 

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने सैलानियों और अमरनाथ यात्रा के श्रद्धालुओं को सुरक्षा कारणों से यात्रा छोड़कर बीच में लौटने के लिए एडवाइजरी जारी की थी। सैलानी और अमरनाथ यात्रा के श्रद्धालु शनिवार को कश्मीर घाटी से लौटने लगे हैं। जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने यह एडवाइजरी तब जारी की थी जब सेना ने शुक्रवार को कहा कि पाकिस्तान के आतंकवादी अमरनाथा यात्रा को निशाना बनाने की साजिश रच रहे हैं।