MP College: प्रदेश के लाखों कॉलेजों छात्रों के लिए खुशखबरी, विभाग ने लिया बड़ा फैसला

इसके तहत अब विभाग से जुड़ी कोई भी जानकारी आपको सोशल मीडिया(Social Media) के माध्यम से वाट्सअप (Whatsapp) पर सीधे मिलेगी।

MP College

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश(Madhya Pradesh) के कॉलेज छात्रों (College Student) के लिए बड़ी खबर है। अब उच्च शिक्षा विभाग (Higher Education Department) से जुड़ी कोई भी खबर(News) के लिए छात्रों(Student) को परेशान नहीं होना पड़ेगा।इसके लिए विभाग डिजिटल तकनीक (Digital technology) अपनाने जा रहा है, इसके तहत अब विभाग से जुड़ी कोई भी जानकारी आपको सोशल मीडिया(Social Media) के माध्यम से वाट्सअप (Whatsapp) पर सीधे मिलेगी।

यह भी पढ़े.. MP College : मप्र के 350 प्रोफेसरों ने शासन से मांगी स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति, ये है बड़ा कारण

दरअसल, उच्च शिक्षा विभाग कोई भी कॉलेज (College) और छात्रों (Student) से संबंधित सूचना भेजता है तो वहां अधिकतर छात्रों तक नहीं पहुंचती है, इसका मुख्य कारण है विभाग से छात्रों का सीधा जुड़ाव ना होना और शासन की वेबसाइट पर ना पहुंचना।इसके लिए विभाग ने भोपाल-इंदौर (Bhopal-Indore) समेत पूरे प्रदेश  के छात्रों तक अपनी बात पहुंचाने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लेना का प्लान बनाया है।

इसकी जिम्मेदारी इंदौर के अग्रणी कॉलेज ओल्ड जीडीसी (शासकीय माता जीजाबाई गर्ल्स कॉलेज) दी गई है, जो सभी कॉलेजों के प्राचार्यों का ग्रुप बनाएगा और  प्राचार्य अपने कॉलेज (College) में नोडल ऑफिसर को नियुक्त करेंगे।इसके तहत हर कॉलेज के प्राचार्यों और सभी छात्रों के वॉट्सएप ग्रुप बनार जोड़ा जाएगा। । इसके बाद सरकारी योजनाएं (Government Schemes), स्कॉलरशिप (Scholarship), संबल मेधावी और गांव की बेटी जैसी तमाम योजनाओं से जुड़े निर्देश इस पर साझा किए जाएंगे,ताकी छात्रों को आसानी से जानकारी मिल सके।

यह भी पढ़े… Metro Rail Project : जल्द होगी डायरेक्टरों की नियुक्ति, इन अफसरों के मंगवाए गए आवेदन

यूटीडी के 13 हजार से ज्यादा छात्रों को विभागवार ग्रुप बनाकर जोड़ने की जिम्मेदारी रजिस्ट्रार की रहेगी। यहां भी हर विभाग में एक-एक नोडल ऑफिसर बनाया जाएगा।इतना ही नहीं यह जानकारियां छात्रों तक पहुंच रही है या नहीं इसकी मॉनिटरिंग अग्रणी कॉलेज और हायर एजुकेशन के एडिशनल डायरेक्टर करेंगे, ताकी प्रदेश के एक-एक छात्र तक शासन के हर निर्देश व योजना पहुंचे। इस संबंध में प्रदेश सरकार (MP Government)की तरफ से निर्देश भी दिए गए है।