सरकारी नौकरी 2021: सामान्‍य वर्ग के इन उम्‍मीदवारों को बड़ा झटका, उम्र में छूट देने से इंकार

केन्द्र की मोदी सरकार (Modi Government) ने सामान्य वर्ग (General Category) के आर्थिक रूप से पिछड़ों को सरकारी नौकरियों (Government Jobs) में उम्र (Age) में छूट देने से इंकार कर दिया है।

सरकारी नौकरी 2021

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। सामान्य वर्ग वालों को बड़ा झटका लगा है। केन्द्र की मोदी सरकार (Modi Government) ने सामान्य वर्ग (General Category) के आर्थिक रूप से पिछड़ों को सरकारी नौकरियों 2021 (Government Jobs) में उम्र (Age) में छूट देने से इंकार कर दिया है।यह जानकारी सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय (Ministry of Social Justice and Empowerment) ने पिछले दिनों संसद (Parliament) को दी।

यह भी पढ़े.. सरकारी नौकरी 2021: मप्र में 2850 पदों पर निकली वैकेंसी, जल्द करें आवेदन

दरअसल, बीते दिनों यह मांग उठाई गई थी कि सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से पिछड़ों को भी  एससी-एसटी (SC-ST) और अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) की तरह आरक्षण के साथ उन्हें आयु सीमा और फीस (Fees) में छूट दी जाए। लेकिन केन्द्र की मोदी सरकार ने इस मांग को सिरे से खारिज कर दिया है।सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय  ने पिछले दिनों संसद में दी गयी जानकारी में बताया कि सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से पिछडे़ वर्ग में अभी पात्र व्यक्तियों की कोई कमी नहीं है, ऐसे में ईडब्ल्यूएस (EWS) को इस तरह की कोई छूट प्रदान नहीं की जा सकती है।

खास बात तो ये है कि यह सरकारी नौकरी 2021 (Government Jobs) से जुड़ी जानकारी ऐसे समय में संसद में सामने आई है जब संसद के कई सांसदों (Loksabha MP) ने कार्मिक मंत्रालय (Ministry of Personnel)  को एक सिफारिशी पत्र लिखा है जिसमें कहा गया है कि सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से पिछड़ों को भी आरक्षण प्राप्त दूसरे वर्गों की तरह आयु सीमा और फीस आदि में छूट प्रदान की जाए।

यह भी पढ़े.. Road Accident: मप्र में 2 सड़क हादसों में 5 की मौत, 3 दर्जन घायल, रोड पर बिखरे शव

बता दे कि वर्तमान में केन्द्र की मोदी सरकार सरकारी नौकरियों 2021 (Sarkari Nokri 2021) और उच्च शिक्षण संस्थानों के दाखिले में सामान्य वर्गों के लोगों को 10 फीसद आरक्षण  (Reservation) देती है। दो साल पहले केन्द्र की मोदी सरकार द्वारा फरवरी 2019 में संविधान संशोधन के जरिये सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों को 10 फीसद आरक्षण देने का फैसला किया था। तभी से यह छूट देने की मांग भी की जा रही है।