शिवराज सरकार का बड़ा फैसला- नोडल अधिकारियों को दी जायेगी यह जिम्मेदारी

खास बात ये है कि उद्यानिकी विभाग की नर्सरियों को ए, बी और सी तीन श्रेणियों में रखा जायेगा। उद्यानिकी विभाग के अंतर्गत मॉडल विकासखण्डों के लिये भी नोडल अधिकारी बनाये जायेंगे। 

शिवराज सरकार

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आत्म निर्भर मध्यप्रदेश (Aatmanirbhar Madhya Pradesh)
बनाने को लेकर शिवराज सरकार (Shivraj Government) एक के बाद एक बड़े निर्णय ले रही है।  इसी कड़ी में अब मध्य प्रदेश के उद्यानिकी विभाग (Horticulture department) ने बड़ा फैसला किया है। इसके तहत नर्सरियों (Nurseries)  के विकास के लिये नोडल अधिकारियों (Nodal officers) को जिम्मेदारी दी जायेगी। खास बात ये है कि उद्यानिकी विभाग की नर्सरियों को ए, बी और सी तीन श्रेणियों में रखा जायेगा। उद्यानिकी विभाग के अंतर्गत मॉडल विकासखण्डों के लिये भी नोडल अधिकारी बनाये जायेंगे। 

यह भी पढ़े… Indore News: कांग्रेस ने घोषित किया महापौर प्रत्याशी, विजयवर्गीय को दी चुनौती

दरअसल, आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के अंतर्गत उद्यानिकी विभाग के रोडमैप में निर्धारित किये गये कार्यक्रमों को लेकर उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री  भारत सिंह कुशवाह (Minister Bharat Singh Kushwaha) ने समीक्षा की है, जिसके तहत यह फैसला लिया गया है।  मंत्री भारत सिंह कुशवाह  ने बताया कि उद्यानिकी विभाग के अंतर्गत मॉडल विकासखण्डों के लिये भी नोडल अधिकारी बनाये जायेंगे।

उन्होंने कहा कि उद्यानिकी विभाग की नर्सरियों को ए, बी और सी तीन श्रेणियों में रखा जायेगा। नर्सरियों के लिये नोडल अधिकारियों को नियुक्त किया जायेगा। नोडल अधिकारी निर्धारित मानकों के अनुसार नर्सरियों का विकास करेंगे। नोडल अधिकारियों को दायित्व सौंपे जायें, उन्हें नर्सरियों और विकासखण्डों के विकास की योजना को क्रियान्वित करने का अधिकार दिया जाये। नोडल अधिकारी क्षेत्र का भ्रमण करें और नर्सरियों में भी जायें। विकास के लिये जरूरी कार्यों की अनुशंसा करें।

यह भी पढ़े… MP Police : मध्यप्रदेश के इन पुलिसकर्मियों को तोहफा, आदेश जारी

इसके अलावा मंत्री भारत सिंह कुशवाह  ने बताया कि ने नर्सरियों की विकास योजनाओं को स्वीकृति देते समय वरिष्ठ अधिकारी नोडल अधिकारियों द्वारा दी गई अनुशंसाओं को ध्यान में रखें। उद्यानिकी फसलों (Horticultural Crops) के उत्पादन से जुड़े किसानों के जीवन में बदलाव लाने के लिये जरूरी है उद्यानिकी फसलों के उत्पादन में वृद्धि करने के उपाय किये जायें। किसानों (Farmers) को उपायों को अपनाने के लिये प्रेरित किया जाये। किसानों को उद्यानिकी फसलों के उत्पादों के प्र-संस्करण के क्षेत्र में भी आगे लाया जाये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here