International Day of Democracy 2022 : अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस आज, जानिये उद्देश्य और महत्व

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। आज अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस (International Day of Democracy 2022) है। दुनियाभर में 15 सितंबर को ये दिन धूमधाम से मनाया जाता है। लोकतंत्र ऐसी प्रणाली है जिसमें जनता अपने मत का प्रयोग कर प्रतिनिधि का चुनाव करती है। विचारक अब्राहम लिंकन की परिभाषा इसपर एकदम सटीक बैठती है ‘जनता की, जनता के लिए, जनता के द्वारा सरकार।’ इस साल ये दिन  ‘लोकतंत्र, शांति और सतत विकास लक्ष्यों को पूरा करने के लिए मीडिया की स्वतंत्रता के महत्व’ विषय पर केंद्रित है।

MP News : 17 सितंबर से मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान, पात्र हितग्राहियों को मिलेगा योजनाओं का लाभ

2007 में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस की शुरुआत की गई थी। वर्ष 2008 में पहला अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस मनाया गया। 8 नवंबर, 2007 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में एक प्रस्ताव लाया गया जहां इस दिवस को मनाए जाने की बात रखी गई। लोकतंत्र को प्रोत्साहित और मज़बूत करने के लिए प्रस्ताव पारित किया गया था। ये दिन लोकतंत्र के कामकाज में सामुदायिक भागीदारी के महत्व को उजागर करने और दुनिया में हर स्थान पर सुशासन लागू करने के उद्देश्य से मनाया जाता है। ये दिन लोकतंत्र को बढ़ावा देने के लिए भी समर्पित है। लोकतंत्र के अंतर्राष्ट्रीय दिवस को मनाने का विचार लोकतंत्र पर सार्वभौमिक घोषणा से उपजा है। इसे अंतर-संसदीय परिषद द्वारा 16 सितंबर, 1997 को अपने 161वें सत्र में अपनाया गया था।

हम गौरव से कह सकते हैं कि भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। दुनिया में दो तरह की लोकतंत्र प्रणाली है- संसदीय प्रणाली और राष्ट्रपति प्रणाली। भारत सहित इंग्लैड, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा में संसदीय प्रणाली है वहीं अमेरिका में राष्ट्रपति प्रणाली लागू है। इस साल लोकतंत्र दिवस पर संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने अपने संदेश में इस बात पर विशेष जोर दिया है कि स्वतंत्र प्रेस और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के बिना लोकतंत्र जीवित नहीं रह सकता है। अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस पर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट के माध्यम से शुभकामनाएं दी हैं।