निकाय चुनाव 2021: विंध्य में कमलनाथ ने की बड़ी घोषणा, सियासी हलचल तेज

कमलनाथ (Former Chief Minister Kamal Nath)  रीवा(Rewa) (Rewa) पहुंचे और बडा ऐलान करते हुए कहा कि संत रविदास की बड़ी प्रतिमा लगाएगी।

कांग्रेस

रीवा, डेस्क रिपोर्ट। चुनाव आयोग (election Commission) ने भले ही मध्य प्रदेश (MP) में नगरीय निकाय चुनाव (Urban Body Election) और पंचायत चुनावों (Panchayat Election) की तारीखों का ऐलान नहीं किया है, हालांकि संभावना जताई जा रही है कि मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल (Board of Secondary Education-MP Board) की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं (Board Exams 2021) के बाद ही मई के लास्ट में इस पर फैसला लिया जाएगा। लेकिन इसके पहले सियासी पारा हाई हो चला है। इसी कड़ी में पूर्व मुख्यमंत्री और पीसीसी चीफ कमलनाथ (Kamal Nath) ने एक बड़ा ऐलान कर सियासी गलियारों में हलचल पैदा कर दी है।

यह भी पढ़े.. सरकारी नौकरी 2021: सामान्‍य वर्ग के इन उम्‍मीदवारों को बड़ा झटका, उम्र में छूट देने से इंकार

दरअसल, आगामी चुनावों और अलग विंध्य प्रदेश (Vindhya Pradesh) बनाने की मांग के बीच एमपी कांग्रेस (MP Congress) ने विंध्य पर फोकस करना शुरु कर दिया है। यही कारण है कि आज शनिवार को संत रविदास जंयती के अवसर पूर्व मुख्यमंत्री और पीसीसी चीफ कमलनाथ (Former Chief Minister Kamal Nath)  रीवा(Rewa) (Rewa) पहुंचे और बडा ऐलान करते हुए कहा कि संत रविदास की बड़ी प्रतिमा लगाएगी।

कमलनाथ (Kamal Nath) ने कहा कि  अपना देश एक झंडे के नीचे खड़ा है, यही कांग्रेस की संस्कृति है। 15 साल बाद कांग्रेस (Congress) सरकार में आई। विंध्य में नुकसान हुआ इ​सलिए रह नहीं पाई। आज संत रविदास की जयंती (Birth anniversary of saint ravidas) पर मैं नमन करता हूं, आज के दिन मैं घोषणा करता हूं कि कांग्रेस की ओर से उनकी प्रतिमा रीवा में लगाई जाएगी।आप लोग उनकी प्रतिमा के लिए स्थान ढूंढे ,प्रतिमा में लगवाऊँगा।

वही EVM पर सवाल उठाते हुए कहा कि जब आप खुद को इतना लोकप्रिय मानते हो , कहते हो कि जनता आपके साथ है तो ईवीएम को छोड़ बैलेट पेपर (Ballot paper से चुनाव(Election 2021) क्यों नहीं करवाते ? जिस ईवीएम को अमेरिका(America) , फ़्रांस , जर्मनी, जापान जैसे देशों ने छोड़ दिया, उसे आज भाजपा ने पकड़कर रखा है।

कमलनाथ ने कहा कि 15 वर्ष बाद प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आयी ,आप सब लोगों ने कांग्रेस को चुना।यह सही है कि विंध्य में हमारा नुकसान हुआ, विंध्य में हमारा नुकसान नहीं होता तो आज भी प्रदेश में कांग्रेस की सरकार होती लेकिन यहां के कांग्रेस कार्यकर्ताओं में बहुत उत्साह है, यहां के कार्यकर्ता कमजोर नहीं है, यदि आप सब लोग ठान लेंगे तो वापस प्रदेश में कांग्रेस का झंडा लहराएगा।

इस दौरान रीवा लोकसभा (Rewa Lok Sabha Seat)के पूर्व प्रत्याशी और कांग्रेस नेता सिद्धार्थ तिवारी राज ने विश्व विख्यात सुपारी से निर्मित राम दरबार (Ram Darbar) की प्रतिमा कमलनाथ को भेंट कर अभिवादन किया।इस दौरान पूर्व कमलनाथ ने मंच पर काफी देर तक विंध्य की स्थितियों एवं नगरीय निकाय के चुनावों को लेकर चर्चा की। वही किसानों (Farmers) और किसान आंदोलन (Farmers Protest) को लेकर भी आगे की रणनीति पर चर्चा की।

यह भी पढ़े.. 3 मार्च को मप्र विधानसभा का घेराव करेगी युवा कांग्रेस, कमलनाथ बोले- सभी विधायक उठाएं मुद्दे

कमलनाथ के इस ऐलान ने ना सिर्फ बीजेपी बल्कि पूरे प्रदेश में हलचल मचा दी है। खास बात तो ये है कि ऐलान ऐसे समय में किया गया है कि जब सतना (Satna) के मैहर विधानसभा क्षेत्र(Maihar Assembly Constituency)  से बीजेपी विधायक नारायण त्रिपाठी(BJP MLA Narayan Tripathi)  द्वारा अलग विंध्य प्रदेश बनाने की मांग तेजी से उठाई जा रही है, इसको लेकर पहले से ही भोपाल (Bhopal) से दिल्ली (Delhi) तक हलचल तेज है।

वही कांग्रेस ने भी इस मांग को समर्थन दिया है। हालांकि कांग्रेस के कार्यकाल में नारायण त्रिपाठी और कमलनाथ की नजदीकियां भी चर्चाओं में रही है।वही दूसरी तरफ अपनों की नाराजगी दूर करने भारतीय जनता पार्टी (BJP)  विंध्य से बीजेपी विधायक गिरीश गौतम  (MLA Girish Goutam) को विधानसभा अध्यक्ष (MP Assembly Speaker) बनाकर पहले ही बड़ा दांव खेल चुकी है। अब देखना दिलचस्प होगा कि इस घोषणा का वोटरों (Voters) पर कितना असर पड़ता है।