mp board

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।  मध्य प्रदेश  माध्यमिक शिक्षा मंडल (Madhya Pradesh Board of Secondary Education-MP Board) के 12वीं के छात्रों के लिए बड़ी खबर है।पिछले फॉर्मूलें में कई दिक्कतों के चलते स्कूल शिक्षा विभाग (school education department) नए फॉर्मूले पर विचार कर रहा है, इसको लेकर तैयारियां शुरु हो गई है। माना जा रहा है कि एक दो दिन में नया रिजल्ट का फार्मूला तैयार कर लिया जाएगा। इसके तहत 10वीं बोर्ड परीक्षा का परिणाम व 12वीं के रिवीजन और छमाही परीक्षा के आधार पर रिजल्ट बनाया जा सकता है।

यह भी पढ़े.. MP Weather Update: मप्र के इन 9 जिलों में भारी बारिश की संभावना, अलर्ट जारी

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक,  पिछले दिनों स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा 10वीं,11वीं और 12वीं के अंकों को आधार बनाकर रिजल्ट निकालने का फार्मूला तैयार किया गया था, लेकिन निजी स्कूल संचालकों ने यह कहकर फॉर्मूला खारिज कर दिया कि उनके पास 11वीं का पिछले साल का कोई रिकॉर्ड नहीं, ऐसे में MP Board के 12वीं का रिजल्ट तैयार करने में परेशानी आएगी, इसलिए इस फार्मूले को बदला जाए।खबर है कि करीब सवा लाख छात्रों के नंबर रिजल्ट शीट पर नहीं चढ़ाए गए है।

इसके बाद स्कूल शिक्षा विभाग ने निजी स्कूल संचालकों की मांग को पूरा करते हुए अधिकारियों को फिर से नया फॉर्मूला (MP Board 12th Result) तैयार करने को कहा जिसमें 11वीं के अंकों को शामिल करने की बात ना हो। निर्देश मिलते ही अधिकारियों की टीम ने नया फार्मूला तैयार किया, जो मंगलवार को होने वाली स्कूल शिक्षा मंत्री द्वारा गठित मंत्री समूह की बैठक में रखा जाना था, लेकिन सीहोर में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) की अध्यक्षता में कैबिनेट बैठक (Cabinet Meeting) होने के चलते मामला टल गया।

यह भी पढ़े.. Government Employee: सरकारी कर्मचारियों को लेकर नए निर्देश जारी, रोज आना होगा ऑफिस

ऐसे में अब एक दो दिन में मंत्री समूह की बैठक में स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार के सामने नया फॉर्मूल रखे जाने की संभावना है।नए फॉर्मले के अनुसार, 10वीं बोर्ड परीक्षा (MP Board) का परिणाम और 12वीं के रिवीजन और छमाही परीक्षा के आधार पर रिजल्ट तैयार किया जा सकता है।चुंकी 10वीं में 6 विषय होते हैं और 12वीं में 12 से 15 विषय, ऐसे में 10वीं के सभी विषयों का 12वीं के विषयों से मैपिंग कर 60 फीसद से अधिक अंक लिए जा सकते है और 20 फीसद बारह12वीं के आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर रिजल्ट(MPBSE) का फार्मूला बनाए जाने की संभावना है।

बता दे कि स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार(School Education Minister Inder Singh Parmar)  ने छात्रों के सामने यह ऑफर भी रखा है कि अगर वे 12 वीं का कोई छात्र बेहतर परिणाम या सुधार के लिये परीक्षा देना चाहेगा तो उसके लिये विकल्प खुला रहेगा।परिस्थितयां सामान्य होने के बाद ऐसे छात्रों की 12 वीं की परीक्षा ली जाएंगी।प्रदेश के किसी भी विद्यार्थी (Student) को घबराने की जरूरत नहीं है। 12वीं कक्षा का रिजल्ट वैज्ञानिक पद्धति के द्वारा तैयार किया जाएगा। इसके बाद भी यदि कोई विद्यार्थी (MP Board Exams) संतुष्ट नहीं होता है, तो उसके लिए परीक्षा का विकल्प भी रखा जाएगा।