MP उपचुनाव: नतीजे से पहले सीएम शिवराज ने कमलनाथ पर लगाए ये गंभीर आरोप

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि भाजपा का कोई विधायक टस से मस नहीं होगा। भाजपा के विधायक सिद्धांत और विचारधारा के लिए काम करते हैं। इसलिए कमलनाथ की यह कोशिश बेकार जाएगी।

उपचुनाव

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (madhya pradesh) की राजनीति में 10 तारीख को आने वाली परिणाम किसके हाथ सत्ता का ताज सौंपेंगे ये बाद की बात है। फिलहाल नतीजे आने से पहले ही पार्टियों के दिग्गजों के बीच तकरार शुरू हो गई है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (kamalnath) जहां एक तरफ बीजेपी पर सरकार गिराने के लिए विधायक खरीदी का आरोप लगाते रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने कमलनाथ पर गंभीर आरोप लगाया है। सीएम शिवराज (CM shivraj) ने कहा है कि कमलनाथ बीजेपी विधायकों (BJP MLAs) को फोन कर संपर्क साधने की कोशिश कर रहे हैं। हार से बौखलाए कमलनाथ का यह कदम उन्हें सफलता नहीं दे सकता है।

दरअसल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर नतीजे से पहले ही जोड़-तोड़ करने का आरोप लगा रहे हैं। शनिवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ पर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश के कई भाजपा विधायकों के पास कमलनाथ के फोन आ रहे हैं और वह भाजपा विधायकों को लालच देने की कोशिश कर रहे हैं।

यह भी पढ़े: विधानसभा चुनाव 2020 : इस सीट से प्रत्याशी का कोरोना से निधन, समर्थकों में शोक लहर

पत्रकार से बात करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा मध्य प्रदेश की राजनीति में गंदगी लेकर आने वाले कमलनाथ बीजेपी पर खरीद-फरोख्त का इल्जाम लगाते हैं लेकिन अगर कांग्रेस करे तो यह मैनेजमेंट और उनकी पार्टी का कोई नेता खुद हमारी पार्टी में आ रहा है तो खरीद फरोख्त। वही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि भाजपा का कोई विधायक टस से मस नहीं होगा। भाजपा के विधायक सिद्धांत और विचारधारा के लिए काम करते हैं। इसलिए कमलनाथ की यह कोशिश बेकार जाएगी।

सीएम शिवराज द्वारा कमलनाथ और आरोप लगाने के बाद पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा (sajjan singh verma) ने पलटवार किया। सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि बीजेपी हम पर झूठे आरोप लगा रही है। हमने ना पहले कभी सौदेबाजी से सरकार बनाई थी और ना हम अब बनाएंगे। लोकतंत्र को कलंकित करने का काम बीजेपी करती आई है।

बता दें कि मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों (28 assembly seats) पर 3 नवंबर को उपचुनाव (By-election) के लिए मतदान (voting) हुए थे। इसके नतीजे (results) 10 नवंबर को घोषित किए जाएंगे। इससे पहले पार्टी के दो दिग्गजों के बीच इस तरह के आरोप प्रत्यारोप पार्टी के अन्य नेताओं पर क्या असर डालते हैं। वही इन आरोपों में कितनी सच्चाई है। यह देखना दिलचस्प होगा।