MP Weather: मप्र में जल्द बदलेगा मौसम, 5 नवंबर के बाद बढ़ेगी ठंड, इन राज्यों में बारिश-बर्फबारी

अगले 24 घंटे में एक पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होगा, जिसका प्रभाव 4 से 5 नवंबर तक खत्म हो जाएगा।

mp weather

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश में बारिश (MP Weather Update) का दौर थमते ही गुलाबी ठंड का आगाज हो गया है। बीते एक हफ्ते से दिन-रात के तापमान में उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है।पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी का दौर जारी है, ऐसे में 5 नवंबर के बाद प्रदेश में कड़ाके की ठंड पड़ने के आसार है।आज रविवार को पश्चिमी विक्षोभ के असर से पाकिस्तान और उसके आसपास एक प्रेरित चक्रवात के बनने की संभावना है।

यह भी पढ़े.. Government Jobs 2021: रेलवे में निकली है भर्ती, 2 लाख तक सैलरी, नवंबर में वॉक इन इंटरव्यू

मौसम विभाग (MP Weather Department) के अनुसार, नवंबर से ठंड में तेजी आएगी।वर्तमान में साउथ में बने निम्न दबाव के कमजोर पड़ने से ठंड में कमी आई है, लेकिन दिवाली के बाद रात के तापमान में बढ़ोतरी होगी और ठंड बढ़ना शुरु हो जाएगी। अगले 24 घंटे में एक पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होगा, जिसका प्रभाव 4 से 5 नवंबर तक खत्म हो जाएगा। इसके बाद पांच नवंबर के बाद दिन और रात के तापमान में 3 से 4 डिग्री सेल्सियस की गिरावट होने के आसार है।इसे ठंड की दस्तक माना जाएगा।पचमढ़ी और मंडला में तो रात का पारा 10 डिग्री सेल्सियस के नीचे लुढ़का है।

मौसम विभाग (MP weather) के अनुसार, भोपाल में अक्टूबर में 11 साल में पहली बार 30 अक्टूबर को पारा 13 डिग्री सेल्सियस पर आया।शनिवार को राजधानी का अधिकतम तापमान 29.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह सामान्य से दो डिग्रीसे. कम रहा, लेकिन शुक्रवार के अधिकतम तापमान (28.1 डिग्री से.) की तुलना में 1.1 डिग्री से. अधिक रहा। वही इंदौर न्यूनतम तापमान में 14.1 डिग्री दर्ज किया गया जो कि सामान्य से 2 डिग्री कम था। वही अधिकतम तापमान भी सामान्य से चार डिग्री कम 28.4 डिग्री दर्ज किया गया। इंदौर में 9 साल बाद अक्टूबर माह में न्यूनतम तापमान 14.1 डिग्री तक पहुंचा। इसके पूर्व वर्ष 2012 में इंदौर में न्यूतम तापमान 13.8 डिग्री तक रहा था।

यह भी पढ़े… Electricity Bill: बिजली उपभोक्ताओं के लिए बड़ी खबर, जल्द करें ये काम, कट सकता है कनेक्शन

भारतीय मौसम विभाग (MP Weather Alert) के अनुसार, दक्षिण-मध्य केरल ने बारिश का अलर्ट जारी किया है।वही जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में बर्फबारी हो रही है, जिसके चलते अगले महीने कई राज्यों में ठंड के बढ़ने के आसार है। पश्चिमी विक्षोभ के एक नवंबर को उत्तर भारत में प्रवेश करने पर पहाड़ों पर फिर बर्फबारी होगी। पश्चिमी विक्षोभ के आगे बढ़ने पर हवाओं का रुख उत्तरी होते ही तापमान में एक बार गिरावट का सिलसिला शुरू हो जाएगा। वही लीना तूफान के प्रभाव के चलते इस साल कड़ाके की ठंड पड़ने की संभावना जताई है।