अब कांग्रेस कार्यालय में कोरोना की एंट्री, 7 दिनों के लिए लॉक

वही कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री राजेश सिंह की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद कांग्रेस कार्यालय 7 दिन तक बंद रखा गया है। इस दौरान कांग्रेस दफ्तर में किसी को भी एंट्री की इजाजत नहीं होगी।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में कोरोना (corona) से हालात बिगड़ गए है। कोरोना का कहर अब बीजेपी ऑफिस के बाद कांग्रेस कार्यालय (congress office) में भी पहुंच गया है। कांग्रेस कार्यालय में कोरोना की एंट्री के बाद ही कार्यालय में लॉकडाउन (LOCKDOWN) लग गया। दरअसल कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री राजीव सिंह (rajeev singh) की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है।

जिसके बाद प्रदेश कांग्रेस कार्यालय को बंद कर दिया गया है। इस बीच कांग्रेस कार्यालय में 7 दिन के लिए प्रवेश को निषेध कर दिया गया है। बता दें कि मध्यप्रदेश में भोपाल, इंदौर के बाद संक्रमण का बड़ा हॉटस्पॉट (hotspot) बन गया है। लगातार हजार से अधिक पॉजिटिव मामले सामने आ रहे हैं। इसको देखते हुए राजधानी भोपाल के कुछ हिस्सों में कोरोना कर्फ्यू (corona curfew) लागू कर दिया गया है।

इससे पहले बीजेपी कार्यालय में नेताओं की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। जिसके बाद बीजेपी कार्यालय को 10 दिन के लिए बंद कर दिया था। वही कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री राजेश सिंह की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद कांग्रेस कार्यालय 7 दिन तक बंद रखा गया है। इस दौरान कांग्रेस दफ्तर में किसी को भी एंट्री की इजाजत नहीं होगी।

Read More: शिक्षक संघ की शिवराज सरकार से बड़ी मांग, 9वीं-11वीं परीक्षा के लिए रखा यह प्रस्ताव

वही कांग्रेस कार्यालय में काम करने वाले सभी कर्मचारियों को क्वारंटाइन कर दिया गया है। इसके साथ ही पूरे कांग्रेस कार्यालय को सैनिटाइज़ किया जाएगा। साथ ही पिछले एक-दो दिन में प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में उपस्थित सभी लोगों को टेस्ट कराने के निर्देश दे दिए गए हैं। बता दे कि बीजेपी ऑफिस में कोरोना संक्रमित मिलने के बाद पूरे बीजेपी कार्यालय को सैनिटाइज़ किया गया था।

वही संक्रमण को किसी भी तरह से अन्य लोग मे न फैले। इसके लिए सभी के प्रवेश को निषेध कर दिया गया था। बता दें कि प्रदेश में लगातार बड़ी संख्या में संक्रमित मरीजों की पुष्टि हो रही है। सोमवार को संक्रमित 8998 ने मरीज रिकॉर्ड किए गए थे। वहीं 40 लोगों की मौत हो गई थी। ऐसे में भोपाल और इंदौर कोरोना से मध्य प्रदेश में सबसे ज्यादा प्रभावित जिले हैं। जिन पर सरकार नजर बनाई हुई है।