शिवराज सरकार बनी बच्चों की अभिभावक, ग्वालियर चंबल संभाग के 113 बच्चों की उठायेगी जिम्मेदारी

SHIVRAJ SINGH

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। वैश्विक महामारी कोरोना (corona) की वजह से कई बच्चों ने अपने माता-पिता खोये हैं। ऐसे असहाय एवं जरूरतमंद बच्चों के लिए राज्य की शिवराज सरकार (shivraj government)  अभिभावक की भूमिका निभा रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) ने ऐसे बच्चों की सहायता के लिए 21 मई 2021 को मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल सेवा योजना (Chief Minister Kovid-19 Child Service Scheme) शुरू की। इस योजना से ग्वालियर एवं चंबल संभाग में अब तक 113 बच्चों को आर्थिक एवं खाद्य सुरक्षा प्रदान की गई है। इन बाल हितग्राहियों की शिक्षा की जिम्मेदारी भी राज्य सरकार उठायेगी।

जिलेवार लाभान्वित बच्चों की संख्या

मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल सेवा योजना से ग्वालियर चंबल संभाग में अब तक 113 बच्चों को लाभान्वित कराया जा चुका है। योजना से ग्वालियर जिले में 40, अशोकनगर में 10, गुना में 9, मुरैना में 11, भिंड में 12, दतिया में एक, श्योपुर में 13 एवं शिवपुरी जिले में अब तक 17 बाल हितग्राहियों को लाभान्वित किया जा चुका है।

Read More: शिल्पा शेट्टी की मुसीबतें बढ़ी, लखनऊ पुलिस ने दिया नोटिस, 3 दिन में मांगा जवाब

हर पात्र बच्चे को मिल रही है यह सहायता

मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल सेवा योजना के तहत प्रत्येक बाल हितग्राही को 5 हजार रुपये प्रतिमाह की सहायता राशि प्रदान की जाती है। यदि हितग्राही की आयु 18 वर्ष से कम है तो चिन्हांकित संरक्षक एवं बच्चे के संयुक्त खाते में तथा 18 वर्ष की आयु पूर्ण करने के बाद हितग्राही के व्यक्तिगत खाते में जमा की जायेगी। इसके अलावा प्रत्येक बाल हितग्राही तथा उनके संरक्षक को राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत नि:शुल्क मासिक राशन प्रदाय किया जाता है। शिक्षा सहायता अन्तर्गत बाल हितग्राहियों को स्कूली शिक्षा, उच्च शिक्षा, तकनीकी शिक्षा, चिकित्सा शिक्षा एवं विधि शिक्षा के लिए शासकीय विद्यालयों, महाविद्यालयों, विश्वविद्यालयों में नि:शुल्क शिक्षा प्रदान की जाएगी।