भूपेन्द्र सिंह के सख्त निर्देश – ऐसा ना करने वाले ठेकेदारों का ठेका करें निरस्त

भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि ''आत्म-निर्भर'' मध्यप्रदेश (Aatmanirbhar Madhya Pradesh)  के तहत निर्धारित लक्ष्यों को समय-सीमा में पूरा करें।

भूपेन्द्र सिंह

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में मानसून (Monsoon 2021) की दस्तक से पहले नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह (Urban Development and Housing Minister Bhupendra Singh) ने निर्माण कार्यों को लेकर बड़ा फैसला लिया है। मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने अधिकारियों को साफ निर्देश दिए है निर्धारित लक्ष्य के अनुसार कार्य नहीं करने वाले ठेकेदारों के ठेका निरस्त किया जाएगा।

यह भी पढ़े.. यूजर ने कहा- दुपट्टा क्यों नही पहनती? दिव्यांका त्रिपाठी ने दिया करारा जवाब

दरअसल, आज मंगलवार को नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह, मध्यप्रदेश अर्बन डेव्लपमेंट कंपनी (Madhya Pradesh Urban Development Company) की समीक्षा बैठक कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि निर्धारित लक्ष्य के अनुसार जल प्रदाय एवं मल-जल योजनाओं का कार्य नहीं करने वाले ठेकेदारों का ठेका निरस्त करने की कार्यवाही करें। सीवरेज और जल प्रदाय योजनाओं के कारण क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत बरसात के पहले अनिवार्य रूप से करवायें।

मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि ”आत्म-निर्भर” मध्यप्रदेश (Aatmanirbhar Madhya Pradesh)
के तहत निर्धारित लक्ष्यों को समय-सीमा में पूरा करें। सभी अधिकारी-कर्मचारी (Government officers-Employee) मुख्यालय में रहें।  स्थापना व्यय कम करें। कार्यो को पूरा करने का समय तकनीकी पहलुओं को ध्यान में रखकर निर्धारित किया जाय। इसके बाद प्रोजेक्ट निर्धारित समय में पूरा होना चाहिए।

यह भी पढ़े.. बड़ी राहत : मध्य प्रदेश में एक्टिव केस 20 हजार, रिकवरी रेट 96%, सीएम ने मंत्रियों को दी ये नसीहत

बैठक में नगरीय प्रशासन एवं विकास के आयुक्त निकुंज कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि जल प्रदाय एवं मल-जल योजनाओं के कार्य को ”आत्म-निर्भर” मध्यप्रदेश के लक्ष्य में सम्मिलित किया गया है। प्रत्येक कार्य के लिए एक वर्कप्लान बनाया गया है। सतत् समीक्षा के लिए एक पोर्टल तैयार किया गया है।विभिन्न जिलों में 110 जल प्रदाय और 22 मल-जल योजनाएँ संचालित है। 13 शहरों में मिनी स्मार्ट सिटी (Smart City) का कार्य चल रहा है। इसके साथ ही 25 योजनाएँ निविदा और 10 डीपीआर स्तर पर है।

बता दे कि गत वर्ष यह तुलना में इस वर्ष कार्यो में तेजी आयी है। जुलाई से सितम्बर 2021 के बीच 23 और अक्टूबर से दिसम्बर 2021 के बीच 36 योजनाओं को पूरा करने का लक्ष्य है।