रोज की इन आदतों से बढ़ती है PMS की समस्या, वक्त रहते सुधारें, हो सकती है गंभीर बीमारी

PMS

Prementrual Syndrome: प्रीमेंस्ट्रूअल सिंड्रोम ( Primentrual Syndrome) महिलाओं से जुड़ी समस्या है। इसे प्रीमेंस्ट्रूअल डिसऑर्डर (PMD) भी कहा जाता है। आजकल हर दूसरी महिला इस समस्या का सामना कर रही है। महावारी आने से पहले महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टरोन का स्तर भी बढ़ जाता है। इन हारमोंस के बढ़ जाने के कारण महिलाओं में चिड़चिड़ापन, टेंशन, डिप्रेशन, पेट में भयंकर दर्द, ऐठन, मूड स्विंग्स जैसे लक्षण होने दिखने लगते हैं। हमारी कुछ रोजमर्रा की आदतें इस समस्या को और भी ज्यादा गंभीर बना देती है। जिन्हें वक्त रहते सुधारना बहुत जरूरी होता है वरना यह आगे चलकर गंभीर समस्या पैदा कर सकती है।

प्रीमेंस्ट्रूअल सिंड्रोम पीएमएस (PMS) होता क्या है

प्रीमेंस्ट्रूअल सिंड्रोम एक ऐसी समस्या है जो महिलाओं को हर महीने मासिक धर्म शुरू होने से कुछ दिन पहले होती है। इस दौरान महिलाओं को कमजोरी महसूस होती है। इस समस्या से लगभग 80% महिलाएं गुजरती हैं। इसके लक्षण जैसे कमर दर्द, पेट दर्द, चिड़चिड़ापन, मूड स्विंग्स, थकान आदि मासिक धर्म के पांच से ग्यारह दिन पहले ही महसूस होने लगते हैं।

कौन-कौन सी आदतें PMS को बनाती हैं गंभीर

अधिक स्ट्रेस लेना

हद से ज्यादा स्ट्रेस लेना भी पीएमएस की समस्या को बढ़ाता है। जितना हो सके टेंशन फ्री रहना चाहिए। स्ट्रेस फ्री रहने के लिए मेडिटेशन और फिजिकल एक्सरसाइज एक बहुत ही अच्छा उपाय माना जाता है।

पर्याप्त नींद न लेना

पर्याप्त नींद ना लेना भी पीएमएस की समस्या को बढ़ाता है। नींद का कनेक्शन सीधा-सीधा मूड से होता है। पर्याप्त नींद ना लेने से न सिर्फ मूड खराब होता है बल्कि दिनभर चिड़चिड़ापन बना रहता है। रोजाना कम से कम 7 से 8 घंटे की नींद जरूर लेना चाहिए इससे शारीरिक स्वास्थ्य और मानसिक स्वास्थ्य दोनों ही बेहतर रहते हैं।

गलत खानपान

आजकल लोग जंक फूड और अत्यधिक मीठा खाने के आदी हो गए हैं जिस वजह से शरीर को गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ता है इन्हीं समस्याओं में पीएमएस की समस्या भी शामिल है। जिस प्रकार का भोजन हम खाते हैं वही हमारे मूड पर नजर आता है। अपने मूड को बेहतर बनाने के लिए हेल्दी भोजन खाना बहुत अच्छा माना जाता है।

Disclaimer- यहां दी गई सूचना सामान्य जानकारी के आधार पर बताई गई है। इनके सत्य और सटीक होने का दावा MP Breaking News नहीं करता।


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं। मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।

Other Latest News