Sarkari Naukari 2024: संस्कृति मंत्रालय में निकली भर्ती, 67 पद रिक्त, 1.75 लाख मंथली सैलरी, 13 जून तक करें आवेदन 

संस्कृति मंत्रालय में 67 पदों पर भर्ती निकली है। इच्छुक उम्मीदवार यूपीएससी के ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं।

job

Sarkari Naukari 2024: नौकरी की तलाश कर रहे युवाओं के लिए बेहतरीन मौका है। संस्कृति मंत्रालय में कई पदों पर भर्ती निकली है। आवेदन प्रक्रिया जारी है। इच्छुक और योग्य उम्मीदवार 13 जून तक आवेदन कर सकते हैं। मंत्रालय में रिक्त पदों की संख्या कुल 67 है। जिसमें से 31 पद जनरल के लिए खाली हैं। इस संबंध में यूपीएससी ने नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया है। चयनित उम्मीदवारों की नियुक्ति भारतीय पुरातत्व निर्वेक्षण में डेप्यूटी सुपरेटेन्डिंग केमिस्ट और और डेप्यूटी सुपरेटेन्डिंग पुरातत्त्ववेत्ता पद पर होगी।

योग्यता

दोनों ही पदों के लिए योग्यता और आयु सीमा अलग-अलग निर्धारित की गई है। डेप्यूटी सुपरेटेन्डिंग केमिस्ट के लिए उम्मीदवारों के पास रसायन विज्ञान (Chemistry) में ग्रेजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए। मास्टर्स डिग्री होल्डर्स के पास संबंधित क्षेत्र में 1 वर्ष और ग्रेजुएट के पास 3 वर्ष का अनुभव होना चाहिए। वहीं डेप्यूटी सुपरेटेन्डिंग पुरातत्त्ववेत्ता के लिए उम्मीदवारों के पास भारतीय इतिहास/एंथ्रोपॉलोजी/Geology में मास्टर्स की डिग्री होनी चाहिए है। साथ ही Archaelogyy में पोस्ट ग्रेजुएट या एडवांस्ड डिप्लोमा होना चाहिए। संबंधित क्षेत्र में 3 वर्ष का अनुभव भी होना चाहिए।

आयु सीमा

उम्मीदवारों की निर्धारित आयु सीमा अधिकतम 35 वर्ष है। ओबीसी के लिए 38 वर्ष, और एससी/एसटी के लिए 40 वर्ष है। योग्यता और आयु सीमा से संबंधित अतिरिक्त जानकारी के लिए उम्मीदवारों को ऑफिशियल नोटिफिकेशन देखने की सलाह दी जाती है।

वेतन 

7वें सीपीसी के तहत पे मैट्रिक्स में लेवल 10 के तहत चयनित डेप्यूटी सुपरेटेन्डिंग केमिस्ट और और डेप्यूटी सुपरेटेन्डिंग पुरातत्त्ववेत्ता को वेतन मिलेगा। यानि नियुक्ति के बाद 56100-177500 रुपये प्रतिमाह वेतन मिलेगा।

आवेदन शुल्क और लिंक

आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों को 25 रुपये शुल्क का भुगतान करना होगा। महिला/एससी/एसटी/पीडब्ल्यूबीडी के लिए आवेदन शुल्क “शून्य” है। उम्मीदवार http://www.upsconline.nic.in. पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। कैंडीडेट्स को अधिसूचना पढ़ने के बाद ही आवेदन की सलाह दी जाती है।

Advt-No-10-2024-engl-240524 (1)

About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है।अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"