भारत में एक नहीं बल्कि 5 बार मनाया जाता है न्यू ईयर, जानें वजह और महत्व

भावना चौबे
Published on -
new year 2024

New Year 2024: भारत में नए साल को लेकर अलग ही उत्साह और उल्लास देखने को मिलता है। हर किसी को अपने नए साल से ढेरों उम्मीदें रहती हैं। लोग नए साल का स्वागत अलग-अलग तरीकों से करते हैं। कुछ लोग बाहर घूमने जाने का प्लान बनाते हैं तो वहीं कुछ लोग इसे घर पर ही धूमधाम से मनाते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि 1 जनवरी के अलावा भी नया साल मनाया जाता है। जी हां, एक नहीं, दो नहीं बल्कि पांच बार नया साल मनाया जाता है। हर धर्म में नया साल अलग-अलग दिन मनाया जाता है। आज हम आपको इस लेख के द्वारा बताएंगे कि नया साल किस-किस धर्म में और कब-कब मनाया जाता है।

कब-कब मनाया जाता है नया साल

हिंदू नववर्ष, गुड़ी पड़वा

भारत में हिंदू नव वर्ष की शुरुआत चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि यानी चैत्र नवरात्रि से होती है। यह तिथि अधिकतर मार्च या अप्रैल के महीने में आती है। दोनों ऐसा माना जाता है कि इस दिन ब्रह्मा जी ने सृष्टि की रचना की थी। इस दिन को गुड़ी पड़वा के नाम से पूरे भारत में मनाया जाता है।

ईसाई नववर्ष

1 जनवरी को जो नया साल मनाया जाता है वह ईसाई धर्म का नया साल होता है। इस दिन नया साल मनाने का चलन 1582 ई. ग्रेगेरियन कैलेंडर की शुरुआत के बाद से हुआ। जिसके बाद पूरी दुनिया में 1 जनवरी को नया साल मनाया जाता है। खासतौर पर ईसाई धर्म के लोग इस दिन नया साल मनाते हैं।

पंजाबी नववर्ष, बैसाखी

सिख धर्म के लोगों का नया साल बैसाखी पर्व पर मनाया जाता। सिख धर्म के लोग बैसाखी के दिन परंपरा के अनुसार भांगड़ा और गिद्दा करते हैं। इस दिन शाम को आग के आसपास इकट्ठे होकर लोग नई फसल की खुशियां मनाते है। 13 अप्रैल से वैशाखी पर्व की शुरुआत हो जाती है।

जैन नववर्ष

जैन समुदाय के लोगों के द्वारा दिवाली के एक दिन बाद से नया साल मनाया जाता है। ऐसा कहां जाता है कि इसी दिन महावीर स्वामी को मोक्ष प्राप्त हुआ था। इसे वीर निर्माण संवत भी कहा जाता है। इसी दिन से जैन समुदाय के लोग अपना नया साल मनाते हैं।

पारसी नववर्ष

पारसी धर्म के लोग नवरोज उत्सव के रूप में नया साल मनाते हैं। ज्यादातर यह पर्व 19 अगस्त को मनाया जाता है। इस पर्व को मनाने की शुरुआत 3 हजार साल पहले हुई थी। इस पर्व को मनाने की शुरुआत शाह जमशेदजी ने की थी। पारसी धर्म में नया साल को नया साल नहीं बल्कि नवरोज कहा जाता है।

(Disclaimer- यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं के आधार पर बताई गई है। MP Breaking News इसकी पुष्टि नहीं करता।)


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं। मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।

Other Latest News