शारदेय नवरात्र : इस बार डोली में होगा माँ दुर्गा का परिवार सहित आगमन

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। हिंदू धर्म में नवरात्रि का विशेष महत्व है। नवरात्र‍ि के दौरान मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। भक्त व्रत रखते हैं। हिन्दू शास्त्रों के मुताबिक मां दुर्गा हर साल नवरात्रि में अलग-अलग वाहन पर सवार होकर धरती पर आगमन करती हैं। साथ ही प्रस्थान भी अलग-अलग वाहन पर सवार होकर करती हैं। इस साल शारदेय नवरात्रि का पावन पर्व 7 अक्टूबर से शुरू हो रहा है।

Gandhi Jayanti : बैतूल के इस मकान में बसी हैं बापू की यादें, 88 साल पहले यहां ठहरे थे महात्मा गांधी

नवरात्रि के पहले दिन से तय होता है माँ दुर्गा इस बार किस वाहन से धरती पर आती हैं और कैसा रहता है उसका असर। यूं तो मां दुर्गा का वाहन सिंह है, लेकिन हर साल नवरात्रि के समय माता अलग-अलग वाहनों पर सवार होकर धरती पर आती हैं। देवी के अलग-अलग वाहनों पर सवार होकर आने से इसका असर भी अलग-अलग ही बताया गया है।

देवी भागवत के अनुसार-
शशिसूर्ये गजारूढ़ा शनिभौमे तुरंगमे।
गुरौ शुक्रे चदोलायां बुधे नौका प्रकी‌र्त्तिता
इसका अर्थ है कि सोमवार व रविवार को प्रथम पूजा यानी कलश स्थापना होने पर मां दुर्गा हाथी पर सवार होकर आती हैं। शनिवार और मंगलवार को नवरात्रि शुरू होने पर माता का वाहन घोड़ा होता है। गुरुवार या शुक्रवार को नवरात्रि शुरू होने पर माता डोली में बैठकर आती हैं। बुधवार से नवरात्रि शुरू होने पर माता नाव पर सवार होकर आती हैं।

सियासी अखाड़ा बनी गांधी जयंती: भाजपा सांसद का विरोध, कांग्रेस की जमकर नारेबाजी

माता दुर्गा जिस वाहन से पृथ्वी पर आती हैं, उसके अनुसार साल भर होने वाली घटनाओं का भी आंकलन किया जाता है।

“तत्तफलम: गजे च जलदा देवीक्षत्र भंग स्तुरंगमे।
नोकायां सर्वसिद्धि स्या ढोलायां मरणंधुवम्”।
अर्थ-  देवी जब हाथी पर सवार होकर आती है तो पानी ज्यादा बरसता है। घोड़े पर आती हैं तो पड़ोसी देशों से युद्ध की आशंका बढ़ जाती है। देवी नौका पर आती हैं तो सभी की मनोकामनाएं पूरी होती हैं और डोली पर आती हैं तो महामारी का भय बना रहता हैं।

किस दिन कौन-से वाहन पर सवार होकर जाती हैं देवी

माता दुर्गा आती भी वाहन से हैं और जाती भी वाहन से हैं। यानी जिस दिन नवरात्र का अंतिम दिन होता है, उसी के अनुसार देवी का वाहन भी तय होता है।

देवी भागवत के अनुसार-
शशि सूर्य दिने यदि सा विजया महिषागमने रुज शोककरा।
शनि भौमदिने यदि सा विजया चरणायुध यानि करी विकला।।
बुधशुक्र दिने यदि सा विजया गजवाहन गा शुभ वृष्टिकरा।
सुरराजगुरौ यदि सा विजया नरवाहन गा शुभ सौख्य करा॥

अर्थ- रविवार और सोमवार को देवी भैंसा की सवारी से जाती हैं तो देश में रोग और शोक बढ़ता है। शनिवार और मंगलवार को देवी मुर्गा पर सवार होकर जाती हैं, जिससे दुख और कष्ट की वृद्धि होती है। बुधवार और शुक्रवार को देवी हाथी पर जाती हैं, इससे बारिश ज्यादा होती है। गुरुवार को मां भगवती मनुष्य की सवारी से जाती हैं, इससे सुख और शांति की वृद्धि होती है।

गाड़ी रोकने पर भड़के भाजपा कार्यकर्ता, ट्रैफिक पुलिस पर लगाए अभद्रता करने के आरोप

इस बार साल 2021 में शारदीय नवरात्रि की शुरुआत बृहस्पतिवार 07 सितंबर से हो रही है। ऐसे में माता रानी इस बार डोली पर सवार होकर आएंगी। ज्योतिष के अनुसार माना जाता है कि जब कभी माता डोली पर सवार होकर आती है तो इसे स्त्री शक्ति को मजबूती मिलने के रूप में देखा जाता है। लेकिन इसके साथ ही ये भी मान्यता है कि ऐसा होने पर लोगों को कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा इस समय संक्रामक रोगों के फैलने की भी आशंका बनी रहती है। साथ ही माता का डोली पर आना राजनीतिक रूप से भी शुभ नहीं माना गया है। डोली में माता का आगमन के संबंध में माना जाता है कि यह समय देश दुनिया और आमजनों के लिए शुभ नहीं रहेगा। इसके अलावा माता के डोली में आगमन से पृथ्वी के कई हिस्सों में बड़ी राजनीतिक हलचल होने के साथ ही भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाओं में जन धन की हानि होने की भी संभावना रहेगी।