अशोकनगर/हितेंद्र बुधौलिया

किसी जमाने में महाराज और शिवराज के बीच राजनीतिक अखाड़े का बड़ा मंच बन चुका अशोकनगर जिला बदली परिस्थिति में भी सुर्खियों में आने लगा है। बीते कुछ दिनों में यहां राजनीतिक परिदृश्य में बड़ी तेजी से घटनाएं घट रही हैं। मंगलवार को भाजपा ने कांग्रेस को बड़ा झटका दिया है, करीब ढाई सौ से ज्यादा कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने भोपाल के भाजपा प्रदेश कार्यालय में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में कांग्रेस के दो पूर्व विधायकों जजपाल सिंह जज्जी एवं बृजेंद्र यादव के नेतृत्व में भाजपा का दामन थाम लिया है।

उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार गिराने में जिन 22 विधायकों ने बगावत की थी, उसमें से दो अशोकनगर जिले से आते हैं। इनमें मुंगावली से बृजेंद्र यादव और अशोकनगर से जजपाल सिंह जज्जी है। इन दोनों ने ही मंगलवार को अपने अपने क्षेत्रों से कांग्रेस के पुराने कार्यकर्ताओं को ले जाकर भाजपा की सदस्यता दिलाई है। इससे पहले सोमवार को ही कांग्रेस के मुंगावली विधानसभा उपचुनाव के प्रभारी एवं पूर्व कृषि मंत्री सचिन यादव ने भाजपा सांसद केपी यादव के भाई से उनके घर जाकर मुलाकात की थी। राजनीतिक खेल की इस चाल के बाद भाजपा ने कांग्रेस बड़ा झटका दिया है। किसी जमाने में एकतरफा ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव वाले क्षेत्र में अभी तक कांग्रेस के लोग उहापोह की स्थिति में थे कि वह कांग्रेस में रहे या भाजपा की सदस्यता ग्रहण करें। अभी तक कोई बड़ा आयोजन ना हो पाने के कारण यह सभी भाजपा की सदस्यता नही ले पाये थे।

उपचुनाव से पहले दलबदल का ये जो सिलसिला तेज हो हुआ है उसके आगे ओर बढ़ने के आसार है। मंगलवार सुबह अशोकनगर से पूर्व विधायक जजपाल सिंह जज्जी की अगुवाई में लगभग 250 कांग्रेस नेता एवं कार्यकर्ता 3 बसों एवं कई कारों में सवार होकर राजधानी भोपाल पहुंचे। मंगलवार शाम करीब 6 बजे मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में ही उन सबने बीजेपी दफ्तर में पार्टी की सदस्यता ले ली।