ओलावृष्टि ने बढ़ाई किसानों की चिंता, फसलें बर्बाद, मुआवजे की मांग

अशोकनगर|हितेन्द्र बुधौलिया।

बीती रात अशोकनगर जिले में अचानक मौसम में परिवर्तन हुआ। इसके कारण बरसात एवं ओलावृष्टि हुई ।चंदेरी एवं ईसागढ़ विकासखंडो के कई गांव में आसमानी आफत का सबसे ज्यादा असर देखने को मिला है। ओलावृष्टि के कारण चना एवं मशहूर तथा सरसों की फसलों को नुकसान हुआ है चंदेरी क्षेत्र के कुछ गांवों में पशु पक्षियों की मौत की खबर भी है।

भांडेरी गांव के पास लोग फसलों के सर्वे की मांग को लेकर सड़क पर उतर गए।
सोमवार को शाम अचानक अशोकनगर जिले के मौसम में परिवर्तन हुआ जिसके कारण कई इलाकों में तेज हवा के साथ पानी एवं ओलावृष्टि हुई। जिस कारण खेतों में खड़ी एवं कटी फसल को भारी नुकसान हुआ है। किसानों का कहना है कि बेर के आकर के ओलों के कारण फसल बर्बाद हो गई है। कई गांव में तो ओलों की सफेद चादर सी बिछ गई ।फसलों को हुए नुकसान को लेकर किसानों ने सर्वे एवं मुआवजे की मांग की है।

चंदेरी विकासखंड के महोली ,ढाकोनी ,नया खेड़ा ,मामोन एवं भंडारी गांव कयास पास सबसे ज्यादा नुकसान बताया जा रहा है ।ओलों की तीव्रता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है इन की मार से कई पक्षी भी मृत मिले हैं।भंडारी गांव के पास लोग सड़क पर चक्का जाम करने के लिये आये थे।चन्देरी तहसीलदार ने उन्हें समझाइस दी है कि सर्वे के लिये वह कलेक्टर से बात कर रहे है।