बैहर में 251 स्वरूपो में सजा मां का दरबार, हजारों की संख्या में देश के अलग-अलग राज्यों से पहुंच रहे भक्त

Amit Sengar
Published on -
balaghat

Balaghat News : आदिशक्ति मां दुर्गा की उपासना और आराधना का पर्व नवरात्र पूरे देश में भक्तिभाव, आस्था और पूरी श्रद्वा एवं विश्वास के साथ मनाया जा रहा है। पूरे देश, प्रदेश और जिलो में नवरात्र पर मां के विभिन्न स्वरूपों की मनोहारी प्रतिमाएं सार्वजनिक स्थलों पर विराजित की गई है, लेकिन जिले के बैहर में 251 स्वरूपो में सजे मां के दरबार की छटा ही अलग है। जिसे देखने देश के महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, झारखंड, गुजरात और मुंबई सहित अन्य स्थानों से बड़ी संख्या में भक्तगण यहां पहुंच रहे है। नवरात्र में देश और प्रदेश के अलग-अलग देवी मंदिरो में विराजित मां की मनोहारी प्रतिमाओं को एक स्थान पर 251 स्वरूपो में विराजित किया गया है। सार्वजनिक दुर्गोत्सव समिति बस स्टैंड का नवरात्र पर यह आयोजन देश का पहला आयोजन है, यह कहना कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी।

हालांकि ऐसा नहीं है कि नवरात्र का पर्व पर प्रतिमाओं को विराजित नहीं किया जाता है लेकिन एक साथ 251 प्रतिमाओं की स्थापना का एक नया रिकॉर्ड, बैहर रचने जा रहा है, यही नहीं बल्कि सार्वजनिक बस स्टैंड दुर्गोत्सव समिति द्वारा हर पांच साल में नवरात्र पर प्रतिमाओ को बढ़ाकर विराजित करने की परंपरा में आगामी 2029 में 501 और 2034 में 1008 प्रतिमाओं को एक साथ, एक मंडप पर विराजित करने का भाव है। उम्मीद है कि इस वर्ष 251 प्रतिमाओं को विराजित करके मां की भक्ति का साहस दिखाने वाली सार्वजनिक दुर्गोत्सव समिति के लिए यह लक्ष्य कोई बड़ा नहीं होगा।

Continue Reading

About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”