MP की बेटियों ने किया नाम रोशन, पल्लवी विजयवंशी ने यूपीएससी परीक्षा में हासिल की 730 वीं रैंक

Amit Sengar
Published on -

MP News : संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) द्वारा सिविल सेवा (प्रधान) परीक्षा 2022 का परिणाम 23 मई को घोषित किया गया। जिसमें बालाघाट जिले के लांजी के भुरसोडोंगरी निवासी प्राचार्य छबिलाल विजयवंशी की दूसरे नंबर की बेटी पल्लवी विजयवंशी ने यूपीएससी की घोषित परीक्षा परिणाम में 730 वीं रैंक हासिल की है। जिससे पूरा परिवार प्रफुल्लित है। मां हेमलता विजयवंशी का कहना है कि आज बेटी ने लक्ष्य को हासिल कर लिया। जो विगत चार वर्षो से दिल्ली में रहकर यूपीएससी की तैयारी कर रही थी। पूरा परिवार आनंदित है।

लांजी क्षेत्र के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मनेरी संकुल में बिरनपुर सावरी खुर्द के शासकीय हाईस्कूल में बतौर प्राचार्य के रूप में पदस्थ पिता छबिललाल विजयवंशी का कहना है कि बेटी की परीक्षा नहीं बल्कि मेरी परीक्षा थी और आज मैं बेटी के साथ सफल हो गया। पूरा परिवार बेटी की इस सफलता से हर्षित और आनंदित है।

गौरतलब है कि पल्लवी परिवार में दूसरे नंबर की बेटी है। जबकि बड़ी बेटी पायल का विवाह हो गया है और वह नागपुर में है। जबकि भाई प्रशांत विजयवंशी, सिविल इंजीनियर है जो प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कर रहा है। बचपन से ही कुशाग्र बुद्धि की धनी पल्लवी ने जिले के जवाहर नवोदय विद्यालय से बारहवीं तक की पढ़ाई की। जिसके बाद नागपुर के वीएनटीआई इंजिनियर कॉलेज से इलेक्ट्रॉनिक एंड कम्युनिकेशन की शिक्षा हासिल की और विगत चार वर्षो से वह दिल्ली में रहकर यूपीएससी की तैयारी कर रही थी। बालाघाट की बेटी के रूप में पल्लवी विजयवंशी ने यूपीएससी में चयनित होकर ना केवल परिवार बल्कि जिले का नाम गौरवान्वित किया है।
बालाघाट से सुनील कोरे की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News