बालाघाट में पकड़ाया दो राज्यों का मोस्ट वांटेड नक्सली संदीप उर्फ लख्खु, मुठभेड़ के बाद पुलिस ने दबोचा

दो राज्यों का मोस्ट वांटेड 8 लाख का ईनामी नक्सली संदीप उर्फ लख्खु को मुठभेड़ के बाद पुलिस ने भागते हुए पकड़ा है। ,

बालाघाट, सुनील कोरे। नक्सल प्रभावित बालाघाट (Balaghat) जिले में कान्हा के आसपास सहित जिले के उत्तरी और दक्षिणी क्षेत्र में नक्सलियों (Naxalites) की आमद बढ़ गई है, हालांकि बालाघाट पुलिस की लगातार कार्रवाई के चलते नक्सली अपने मंसुबो पर कामयाब नहीं हो पा रहे है। और हर बार उन्हें नुकसान उठाना पड़ रहा है। जहां विगत महिनो में पुलिस ने नक्सलियों को सप्लाई किय जाने वाले हथियार और विस्फोटक सामग्री के एक बड़े नेटवर्क को पकड़ा था। तो वहीं पुलिस ने बीते 10 अगस्त को हुई नक्सली मुठभेड़ में भाग रहे दो राज्यों के मोस्ट वांटेड 8 लाख रूपये के ईनामी नक्सली संदीप उर्फ लख्मी कुंजाम को गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़ें…Dhar : अलग-अलग कमरों में फांसी के फंदे से झूलते मिले पति-पत्नी, आत्महत्या का कारण अज्ञात

मप्र-छत्तीसगढ़ में 22 मामले दर्ज
पुलिस का दावा है कि नक्सली संदीप पर नक्सली गतिविधि से जुड़े, मध्यप्रदेश में 18 और छत्तीसगढ़ राज्य में 4 अपराध मिलाकर कुल 22 मामले दर्ज है। मूलतः छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिला अंतर्गत कुआकोंडा थाने के बेंगुर का रहने वाला संदीप उर्फ लख्खु बीते विस्तार दलम-2 एवं 3 सहित भोरमदेव और वर्तमान में वह खटिया मोचा दलम के एसीएम पद पर सक्रिय था। जिसकी गिरफ्तारी पर छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा 5 और मध्यप्रदेश सरकार द्वारा 3 लाख रूपये का ईनाम घोषित किया गया था। जिसके पास से पुलिस ने कुछ नक्सली साहित्य बरामद किया हैं। हालांकि पुलिस दावा कर रही है कि पकड़ाये गये हाईकोर नक्सली संदीप उर्फ लख्खु से नक्सलियां से जुड़ी कई महत्वपूर्ण सूचनायें मिली है, जिसके आधार पर पुलिस आगे कार्रवाई करेगी।

नक्सली मुठभेड़ में तीन दलम के नक्सलियों होने का दावा
बालाघाट पुलिस, एसआईबी और हॉकफोर्स द्वारा की गई संयुक्त कार्रवाई में पकड़ाये हार्डकोर नक्सली संदीप उर्फ लख्खु को लेकर कंट्रोल रूम में आयोजित प्रेसवार्ता में एआईजी के.पी. व्यंकटेश्वर राव और पुलिस अधीक्षक अभिषेक तिवारी ने विस्तृत जानकारी दी। बताया जाता है कि पुलिस को विश्वसनीय सूत्रों से बिरसा क्षेत्र अंतर्गत जैरासी में नक्सलियों के आने की जानकारी मिली थी, जिसके बाद पुलिस जब पहुंची तो पुलिस की मौजूदगी की आहट पाकर गांव आये कुछ नक्सली भागने लगे। जब पुलिस और सुरक्षा बलों की टीम ने उनका पीछा किया तो पास ही जंगलो में छिपे अन्य नक्सली साथियों ने पुलिस टीम को निशाना बनाने की मंशा से फायरिंग शुरू कर दी, जिसके जवाब में पुलिस की ओर से भी इसका जवाब दिया गया। चूंकि मामला गांव का होना के कारण पुलिस ने ग्रामीणों को बचाते हुए जोखिम उठाकर भाग रहे नक्सली संदीप उर्फ लख्खु कुंजाम को पकड़ा। इस दौरान नक्सली और पुलिस के बीच 10 से 12 राउंड फायरिंग के बाद नक्सली जंगल का फायदा उठाकर भाग गये। जिसके पास से पुलिस ने नक्सली साहित्य और कुछ रसद बरामद किया है। हालांकि इससे ज्यादा पुलिस को प्रारंभिक पूछताछ में पकड़ाये गये नक्सली संदीप उर्फ लख्खु से नक्सलियों से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी हाथ लगी है।

लांजी क्षेत्र के वारी के जंगल में एक और नक्सली मुठभेड़
जिले में एक ही दिन में नक्सलियों से जुड़ी दो बड़ी घटना सामने आई है, जहां बिरसा क्षेत्र में मुठभेड़ के बाद भाग रहे हार्डकोर नक्सली को पुलिस ने गिरफ्तार किया है, वहीं लांजी क्षेत्र के वारी में सर्चिंग कर रहे जवानों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई। हालांकि इसमें दोनो ओर से कोई हताहत नहीं हुआ है। इस मुठभेड़ के बाद भी नक्सली फरार हो गये। बताया जाता है कि नक्सली रसद और अन्य सामग्री लेकर जा रहे थे, इस दौरान ही पुलिस की आहट मिलने के बाद उन्होंने पुलिस से बचने उन पर फायरिंग कर दी। जिसका जवाब भी सर्चिंग कर रहे जवानों ने दिया है। घटना के बाद दोनो ही क्षेत्र में सर्चिंग टीमों को बढ़ाकर सर्चिंग तेज कर दी गई है। बताया जाता है कि यहां नक्सलियों की मुठभेड़ दर्रेकसा दलम के नक्सलियों से हुई थी। यहां से पुलिस को मेमोरी कार्ड और नक्सली साहित्य के पर्चे मिले है।

पुलिस का हौंसला मजबूत-एआईजी
अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक के.पी. व्यंकटेश्वर राव ने बताया कि जिले में नक्सलियों की आमद लगातार बनी हुई है, भले ही पुराने नक्सली नहीं आ रहे है लेकिन नक्सलियों की नई टीम आकर जिले से युवाओं को प्रलोभित कर नक्सली संगठन में भर्ती कराने का प्रयास कर रही है लेकिन उसे सफलता नहीं मिल रही है, चूंकि नक्सली क्षेत्रो में शासन और पुलिस विभाग द्वारा युवाओं के जीवन बदलने किये जा रहे प्रयास के चलते नक्सलियों को भर्ती के लिए युवा नहीं मिल रहे है, लेकिन भागचंद आर्मो, ब्रजलाल टेकाम और सोनु टेकाम जैसे लोगों की हत्या कर नक्सली पुलिस के मुखबिर तंत्र को खत्म करना चाहते है, लेकिन वह कभी सफल नहीं होंगे। देशसेवा के भाव से काम कर रही पुलिस लगातार नक्सलियों को पस्त कर रही है, जिले में पुलिस के हौंसले बुलंद है।

पुलिस अधीक्षक अभिषेक तिवारी का कहना है कि बिरसा के जैरासी में पुलिस और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में जान का जोखिम उठाकर पुलिस टीम ने मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ राज्य के वांटेड 8 लाख के ईनामी नक्सली संदीप उर्फ लख्खु कुंजाम को गिरफ्तार किया है। जिसे प्रारंभिक पूछताछ में नक्सलियों से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी हाथ लगी है। जबकि लांजी क्षेत्र के वारी में एक और हुई पुलिस और नक्सली मुठभेड़ में साहित्य और इलेक्ट्रानिक आयटम बरामद किये है। जिससे भी कई महत्वपूर्ण जानकारी मिली है। दोनो ही मामले में नक्सली जंगलों का लाभ उठाकर भाग गये है। मामले में पुलिस ने नक्सलियों द्वारा पुलिस पार्टी पर जानलेवा हमला किये जाने पर हत्या का प्रयास किये जाने का मामला नक्सलियों के खिलाफ दर्ज किया गया है।

यह भी पढ़ें… एक बार फिर मध्यप्रदेश ने तोड़ा अपना ही रिकॉर्ड, देश में सौर ऊर्जा का न्यूनतम टैरिफ नीमच में