कान्हा क्षेत्र में बोरे में मिला बाघ का शव, सिर और पैर गायब, एक गिरफ्तार

बालाघाट, सुनील कोरे।  राष्ट्रीय वन्यजीव अभ्यारण्य केन्द्र कान्हा के अलावा जिले के जंगलो में बहुतायात संख्या में बाघ पाये जाते है, कहा जाता है कि बालाघाट जिला बाघों की नर्सरी है, लेकिन अब कान्हा के साथ ही बालाघाट के जंगलों में बाघ की बहुतायात उनकी जान की दुश्मन बन गई है, हालिया महिनों पर गौर करें तो लगातार बाघ के शिकार के मामले सामने आते रहे है। ज्यादातर मामले में करेंट से बाघ के शिकार की घटनायें सामने आई है, बीते सितंबर ही संरक्षित वन्यप्राणी शेर और तेंदुये से जुड़ी दो खबरें सामने आई थी। जहां नैनपुर के चिरईडोंगरी में शेर के नाखुनो के साथ पकड़ाये गये तीन लोगों से पता चला था कि करेंट से जिले के लामता वनविकास निगम के जंगल में उन्होंने अपने साथियों के साथ मिलकर संरक्षित वन्यप्राणी का शिकार किया था। वहीं इसी दिन तेज वर्षा से जिले के परसवाड़ा क्षेत्र के गोहारा में बाढ़ के पानी से बहकर आया तेंदुये को पेड़ में लटकी हालत में वनविभाग ने बरामद किया था। जबकि इससे पूर्व भी संरक्षित वन्यप्राणी बाघो के शिकार की घटना सामने आती रही है, जिससे जिले में बाघ की बाहुलता ही अब उनके लिए खतरा बन गई है। जिसे आसानी से शिकारी शिकार कर रहे है।

सटोरिए के मोबाईल ने खोले ऐसे राज खुद एस.पी. हो गए हैरान, आखिर क्यों हुए फिर 6 पुलिसकर्मी निलंबित

संरक्षित वन्यप्राणी के शिकार से जुड़ा एक नया मामला सामने आया है। बताया जाता कि कान्हा टाईगर रिजर्व के बफर वनमण्डल अंतर्गत परिक्षेत्र सिझौरा की बीट मोहाड़-।। के ग्राम मनोहरपुर में नाला में स्थित स्टापडेम के पास कान्हा की टीम ने 10 अक्टूबर को प्लास्टिक बोरे में रखे गये बाघ के शरीर के कुछ हिस्से जप्त किये गये है। इन हिस्सों को तेज औजार से काटकर अलग किया गया था। हालांकि बरामद बाघ के शरीर के हिस्सो में से बाघ का सिर एवं पैर का हिस्सा गायब है। बताया जाता है कि बोरी में मिला बाघ के शव के अवशेष की स्थिति देखते हुए 4 से 5 दिन पुराना प्रतीत होता है। प्रारंभिक रूप से कान्हा प्रबंधन ने इसे शिकार का मामला मानते हुए अपनी जांच शुरू कर दी है। शिकार कब और किस प्रकार किया गया है, इसकी जांच में टीम जुटी है।

MP News : UPSC में चयनित युवाओं का सम्मान करेंगे CM, मेधावी विद्यार्थियों का सहयोग करेगी सरकार

बोरी में शव के अवशेष बरामद होने के बाद स्थल निरीक्षण, खोजी कुत्ते (डॉग स्क्वायड) एवं स्थानीय संपर्को की सहायता से ग्राम मनोहरपुर के तिंसाटोला से 3 संदिग्ध व्यक्तियों को पूछताछ के लिए पकड़ा गया है, वहीं मनोहरपुर के एक आरोपी के गिरफ्तार होने की बात भी कही जा रही है। बाघ के शव के जब्त अवशेष का राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण नई दिल्ली की प्रतिनिधि सुश्री प्रिया वारेकर, कार्बेट फाउंडेशन एवं कान्हा टाईगर रिजर्व क्षेत्र संचालक एस.के. सिंह की उपस्थिति में पोस्टमार्टम कराकर निर्धारित प्रोटोकाल अनुसार शव को जला दिया गया।