शांति का प्रतीक मौरछठ मेले का हुआ आगाज, बड़ी संख्या में पहुँचे श्रद्धालु

भिंड, सचिन शर्मा। अटेर तहसील के प्रसिद्ध ऐतिहासिक बौरेश्वर धाम मंदिर में भादों माह में मनाये जाने वाले मेला छठ का आगाज हो गया। बौरेश्वर धाम में मौरय विसर्जन की एक प्रथा भी बहुत प्राचीन है, बौरेश्वर मंदिर के प्रांगण में एक विशाल तालाब है उस तालाब में मौरय को विसर्जन किया जाता है, जिसे सामान्य भाषा मे मोरछठ भी कहते हैं। विवाह में वर वधु जो मोर कलगी के रुप मे सिर पर धारण करते हैं, उसे भाद्रपद शुक्ल 6 को प्रवाहित किया जाता है, मान्यता है ऐसा करने से विवाह आनंद पूर्वक निर्विघ्न सम्पन्न माना जाता है। प्रशासन द्वारा तालाब के पास इस विशाल मेले की तैयारी का एनडीआरएफ की टीम को दिया गया था तथा स्ट्रीमर को भी तैयार रखा गया ताकि कोई अप्रिय घटना घटित न हो।

MP By-Election : बुधवार से शुरू होगी नामांकन की प्रक्रिया, उपचुनाव के लिए मतदाता सूची तैयार

यह प्रथा बहुत पुरानी चली आ रही है बौरेश्वरधाम मंदिर पर दर्शन करने के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ हजारों मे होती है। यहाँ श्रद्धालुओ के दर्शन के लिए प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने तमाम इंतजाम किए है, मौके पर एसडीओपी अटेर सुरेंद्र सिंह तोमर, फूप थाना प्रभारी अनीता गुर्जर, अटेर थाना प्रभारी संजय एका, सुरपुरा थाना प्रभारी आलोक सिंह तोमर, पावई दीवान भैयालाल, महिला पुलिसकर्मी, तथा, पुलिस जवानों ने व्यवस्था को चुस्त दुरुस्त बनाए रखा, वही मंदिर परिसर में सोशल डिस्टेंस का पालन किया गया।