बीमार बुजुर्ग महिला के लिए फरिश्ता बनी भोपाल पुलिस, मदद कर दी नई जिंदगी

भोपाल पुलिस (Bhopal Police) ने 2 से 3 दिनों की भूखी 70 साल की बीमार बुजुर्ग महिला (Old Alling Women) को भरपेट भोजन कराया, उसके बाद हेल्थ चेकअप कराया गया। बुजुर्ग महिला के सात साल के पोते का कोविड-19 टेस्ट कराने के बाद उसे बाल निकेतन भेज दिया गया।

एसपी

भोपाल,डेस्क रिपोर्ट। पुलिस समाज सेवा के लिए हमेशा तैयार रहती है लेकिन अक्सर पुलिस का नाम सुनते ही अच्छे अच्छों के पसीने छूट जाते हैं। पुलिस का क्रिमिनल के तरफ सख्त रवैया अक्सर चर्चाओं का विषय बनता है। लेकिन अपने सख्त रवैया से ही पुलिस का एक अलग चेहरा भी है जो कि सौम्य है। भोपाल (Bhopal) से सामने आ रही इस खबर ने पुलिस (Police) का एक अलग चेहरा लोगों के सामने रखा है। भोपाल पुलिस (Bhopal Police) ने 2 से 3 दिनों की भूखी 70 साल की बीमार बुजुर्ग महिला (Old Alling Women) को भरपेट भोजन कराया, उसके बाद हेल्थ चेकअप कराया गया। बुजुर्ग महिला के सात साल के पोते का कोविड-19 टेस्ट कराने के बाद उसे बाल निकेतन भेज दिया गया।

दरअसल अशोका गार्डन थाने को सूचना मिली थी कि राजधानी के सुरेश नगर के मकान नंबर 29 में एक बुजुर्ग महिला अपने 7 साल के पोते के साथ किराए से रहती है। उसने दो-तीन दिन से कुछ खाया पिया नहीं है। वहीं महिला काफी बीमार भी है, साथ ही महिला का बेटा जेल में है। परिवार में कोई भी नहीं है जो उनका ख्याल रख सके। अशोका गार्डन थाना के एसआई उमेश चौहान से सूचनाकर्ता ने बुजुर्ग महिला की मदद करने की गुहार लगाई, जिसके बाद पुलिस ने बिना देरी करें इसकी सूचना चाइल्डलाइन टीम को भी दी और बताएं गए पते पर तुंरत पहुंच  गई। जिसके बाद महिला के घर का जायजा लेने पहुंची पुलिस को घर में बुजुर्ग महिला और उसका 7 साल का पोता गणेश मिला।

बीमार बुजुर्ग महिला के लिए फरिश्ता बनी भोपाल पुलिस, मदद कर दी नई जिंदगी

बुजुर्ग महिला के बीमार होने के चलते एसआई उमेश चौहान ने तुरंत 108 एंबुलेंस को बुलाया जिसके बाद बीमार बुजुर्ग महिला को हमीदिया अस्पताल में ले जाया गया। डॉक्टर ने बुजुर्ग महिला का स्वास्थ्य परीक्षण किया। महिला के चेकअप के बाद डॉक्टर ने बताया कि एडमिट करने की जरूरत नहीं है उनके हालात में काफी सुधार है। 2-3 दिन से भूखा होने के वजह से उन्हे कमजोरी आ गई है। बस उन्हें देखभाल की जरूरत है, लेकिन महिला के परिवार में और कोई नहीं होने के कारण उनकी देखरेख करने वाला कोई नहीं है।

इसके बाद पुलिस ने बुजुर्ग महिला का इंतजाम वृद्ध आश्रम में करवाया, और वृद्ध महिला के पोते गणेश कुमार को चाइल्डलाइन टीम ने बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया और समिति के आदेश अनुसार उसका कोरोनावायरस टेस्ट करवाया गया, कोरोना टेस्ट के बाद गणेश को बाल निकेतन संस्था में भेज दिया गया। बता दें कि बुजुर्ग महिला का नाम चंद्रप्रभा है जो कि महाराष्ट्र की रहने वाली है। वहीं पुलिस बुजुर्ग महिला के बाकी के रिश्तेदारों के बारे में जानकारी जुटाने में लगी हुई है।