तराना विधायक महेश परमार गिरफ्तार, कमलनाथ ने बताया तानाशाही कदम

उज्जैन| तराना से काँग्रेस विधायक महेश परमार (MLA Mahesh parmar) अपने साथियों के साथ तिरंगा हाथ में लेकर पदयात्रा कर भोपाल के लिए अपनी घोषणा के अनुसार रवाना हुए ही थे कि उन्हे सिटी एडिशनल एसपी रूपेश द्विवेदी ने मौके पर पहुँच कर यात्रा रोककर गिरफ्तार (Arrest) किया गया है। गिरफ्तार करने के साथ ही तराना क्षेत्र के विधायक महेश परमार और रतलाम जिले के आलोट के विधायक मनोज चावला को भैरवगढ़ जेल भेज दिया है। जदूरों की समस्याओं को लेकर उज्जैन से भोपाल तक पदयात्रा पर निकलना चाह रहे थे। वे मजदूरों की समस्याओं को लेकर उज्जैन से भोपाल तक पदयात्रा पर निकलना चाह रहे थे।

इसे लेकर पूर्व सीएम कमलनाथ (Kamalnath) ने ट्वीट कर कहा है कि शिवराज (Shivraj) सरकार किसान एवं मज़दूरों की समस्याओं की निरंतर अनदेखी कर रही है। शिवराज सरकार को जगाने के लिये पूर्व घोषित कार्यक्रम अनुसार उज्जैन से भोपाल तक शांतिपूर्ण ढंग से पदयात्रा पर निकले हमारे कांग्रेस के दो विधायक साथी, महेश परमार व मनोज चावला को गिरफ़्तार कर जेल भेज दिया गया है। उन्होने शिवराज सरकार के इस कृत्य को लोकतांत्रिक मूल्यों का हनन , तानाशाही व दमनकारी पूर्ण कदम बताया है। कमलनाथ ने दोनों विधायकों को अविलंब रिहा करने की मांग की है।

तराना विधायक महेश परमार गिरफ्तार, कमलनाथ ने बताया तानाशाही कदम