मजबूर हुआ मजदूर: बैलगाड़ी में खुद जुत गए, मंत्री बोले- ‘हर स्तर पर मदद करेगी सरकार’

भोपाल| मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट (Tulsi Silavat) ने इंदौर (Indore) के सांवेर-बरलाई मार्ग में दो युवकों द्वारा बैलगाड़ी खींचे जाने की घटना पर संज्ञान लेते हुए प्रशासन को पूरी जानकारी लेने के निर्देश दिए हैं| इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इस परिवार की वर्तमान स्थिति की पूरी जानकारी लें और उनकी हर संभव मदद करें।

मंत्री सिलावट ने कहा सुनील और पवन नाम के दो भाई निनोरा गांव से शिप्रा की ओर खुद बैलगाड़ी में जुत कर आ रहे थे, यह घटना संज्ञान में आई है| उन्होंने कहा सम्बंधित अधिकारियों को आदेश दिया है सम्पूर्ण घटना की जांच करें| इसके साथ ही पता लगाएं कि क्या कारण हैं किस स्थिति में उन्हें ऐसा करना पड़ा| यह एक गंभीर ओर कष्टदायी घटना है| सभी अधिकारियों को निर्देश देते हुए उन्होंने कहा इस मामले में जो भी दोषी पाया जाएगा उसकी जांच कर सूचित करें| मध्य प्रदेश सरकार सुनील और पवन की मदद करेगी|

गौरतलब हाल ही में उज्जैन की क्षिप्रा नदी की ओर जा रहे मजदूर परिवार का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ था| इस वीडियो में दो मजदूर एक बैलगाड़ी खींचते नजर आ रहे हैं| उज्जैन के पास निनोरा गांव से शिप्रा नदी की और जा रहे परिवार के बारे में बताया जा रहा है कि बच्चों ‌के इलाज के लिए अपने दोनों बैल बेच दिए, हालांकि वो बच्चों को बचा नहीं पाए| एक महीने पहले उनकी मौत हो गई| सुनील और उसका परिवार फुटपाथ पर रहते हैं| लॉकडाउन खुला तो सांवेर से उज्जैन के क्षिप्रा की ओर अस्थि विसर्जन करने निकल पड़े| इस‌ दौरान रास्ते में रोककर ‌किसी ने उनका वीडियो बनाया, ‌जो अब वायरल हो रहा है|

मजबूर हुआ मजदूर: बैलगाड़ी में खुद जुत गए, मंत्री बोले- 'हर स्तर पर मदद करेगी सरकार'