bhopal-collector-wrote-three-books-

भोपाल।  मध्यप्रदेश शासन ने भोपाल जिले की बहुप्रतीक्षित कमान 2009 बैच के आईएएस टॉपर तरुण पिथोड़े को सौंपी है। पिथोड़े इसके पहले राजगढ़, सीहोर की कमान संभाल चुके हैं और वर्तमान में बैतूल के कलेक्टर हैं। पिथोड़े मध्यप्रदेश ऊर्जा विकास निगम में भी काम कर चुके हैं एवं व्यापम घोटाले के उपरांत उसकी संरचना को ठीक करने हेतु पिथोड़े को व्यापम का डायरेक्टर बनाया गया था।

पिथोड़े लेखक और विचारक भी हैं और इनकी कई मोटिवेशनल किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं। उन्होंने तीन किताबों के लेखक हैं।  शहर और गांव के सतत विकास के प्रति संवेदनशीलता रखने वाले पिथोड़े ने सीहोर कलेक्टर रहते हुए  देहदान करने का संकल्प भी लिया था। यही नहीं वह एक मोटिवेशनल स्पीकर भी हैं। युवाओं को मोटिवेट करने के लिए भी वह जाने जाते हैं। 

कमलनाथ ने जताया भरोसा

तरुण पिथौड़े को भोपाल का कलेक्टर बनाया गया है। वो अभी बैतूल कलेक्टर थे। पिथौड़े सुदाम खाड़े की जगह लाए गए हैं, जिनका पिछले पखवाड़े आधी रात में कमलनाथ सरकार ने तबादला कर दिया था। उसके बाद से भोपाल कलेक्टर का पद खाली पड़ा था. सरकार तब से किसी नये अधिकारी की यहां पोस्टिंग नहीं कर रही थी।