भोपाल : नशे में धुत कॉन्स्टेबल की करतूत, बात कर रहे छात्र-छात्रा को धमकाया, पीटा और कपड़े उतरवाने का बनाया दवाब

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। भोपाल में एक कॉन्स्टेबल की करतूत सामने आई है खुद नशे में धुत इस कॉन्स्टेबल ने सड़क किनारे खड़े होकर बात कर रहे कालेज के छात्र और छात्रा को धमकाया और फिर छात्र की पिटाई कर दी इसके बाद भी उसका मन नहीं भरा तो उसने छात्र के कपड़े उतरवाने की कोशिश की, छात्र और छात्रा कॉन्स्टेबल से माफी मांगते रहे लेकिन उसका दिल नहीं पसीजा, हालांकि छात्र और छात्रा सड़क किनारे खड़े होकर बात कर रहे थे लेकिन कॉन्स्टेबल ने उन्हे धमकाया की वह उन्हे अश्लीलता करने के आरोप में पकड़ लेगा। यह नज़ारा देख आसपास के लोगों की भीड़ लग गई और उन्होंने कॉन्स्टेबल पर ही चढ़ाई कर दी और जमकर उसे लताड़ा। मौका भारी पड़ते देख कॉन्स्टेबल मौके से ही फरार हो गया।

यह भी पढ़ें…. Ration Card : राशन कार्ड धारकों के लिए बड़ी खबर, चलेगा अभियान, इनके राशन कार्ड होंगे निरस्त, शासन की बड़ी तैयारी

घटना गुरुवार शाम की बताई जा रही है घटना का वीडियो भी वायरल हुआ है, एडिशनल डीसीपी राजेश सिंह भदौरिया ने बताया कि VIDEO की जांच कर कॉन्स्टेबल के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। बताया जा रहा है कि छात्र-छात्रा की गलती नहीं थी। वो सिर्फ बात कर रहे थे। पुलिसकर्मी प्रशांत तिवारी आते ही बदतमीजी करने लगा। इसके बाद भी वो अनदेखा करके आगे बढ़ गए। कॉन्स्टेबल ने पीछे से जाकर छात्र से मारपीट शुरू कर दी। छात्र ने बिना गलती के माफी भी मांगी, लेकिन वो मारता रहा। दोनों ने परिजनों से बात करने के लिए भी कहा, लेकिन वो बात करने को भी तैयार नहीं हो रहा था। इसके बाद राहगीरों ने पुलिसकर्मी से कहा कि गलती तो हो गई तुमसे, दोनों से माफी मांग लो और जाओ, लेकिन वो इतना नशे में था कि बस धमकी ही देता रहा।
कॉन्स्टेबल प्रशांत तिवारी एमपी नगर थाने में पदस्थ है। रचना टॉवर के सामने फुटपाथ पर दुकान चलाने वाले लोगों ने बताया कि यह पुलिसकर्मी हर रोज सुभाष नगर विश्राम घाट के सामने मैदान में ड्रिंक करने आता है। इसके बाद जो लड़के-लड़कियां यहां घूमते हैं, उन्हें पकड़कर पूछताछ करता है। बुधवार को भी उसने एक प्रेमी जोड़े को पकड़ा था। थोड़ी देर तक उनसे पूछताछ करने के बाद उन्हें छोड़ दिया था। रचना नगर के सामने वाला इलाका ऐशबाग और गोविंदपुरा थाने की सीमा पर है। वह थाने की सीमा से बाहर जाकर हरकत कर रहा था।