करोड़ों की लागत से बना साइकिल ट्रैक लापरवाही की भेंट चढ़ा, कहीं गड्ढे तो कहीं मवेशियों का कब्जा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। शहर के साइकिल प्रेमियों के लिए भोपाल स्मार्ट सिटी द्वारा बनाया गया साइकिल ट्रैक अब किसी काम का नहीं रहा है। होशंगाबाद रोड पर सावरकर सेतु से मिसरोद तक 5 करोड़ की लागत से बने इस साइकिल ट्रैक की स्थिति बदहाल हो चुकी है।

साइकिल प्रेमियों के लिए बनाया गया रेड कलर का स्मूद ट्रैक अब गड्ढों की भेंट चढ़ रहा है।  ट्रैक पर हर जगह कुछ दूरी पर गड्ढे, कीचड़ और जानवरों का अड्डा नजर आता है। इससे ट्रैक पर साइकिल चलाना तो दूर, चलना भी मुसीबत बन गया है। इतना ही नहीं, कई जगह ट्रैक पर खुले हुए बिजली के तार भी पड़े हुए हैं, जिससे कभी भी कोई हादसा हो सकता है।

स्मार्ट सिटी इस साइकिल ट्रैक को शहरवासियों के लिए एक बेहतरीन सौगात बताता आया है लेकिन 6 किलोमीटर लंबे इस ट्रैक के मेंटेनेस के लिए कुछ नहीं किया जा रहा है। इस ट्रेक को आकर्षित बनाने वाला लाल रंग भी अब फीका पड़ने लगा है। स्मार्ट सिटी की लापरवाही इसी बात से समझ में आ जाती है कि स्मार्ट सिटी भोपाल ने बारिश से पहले इस ट्रैक का मेंटेनेस नहीं कराया था। इसका नतीजा यह रहा कि करोड़ों की लागत से बना यह ट्रैक अब गड्ढों भरे ट्रैक में तब्दील हो गया है। हैरानी की बात यह है कि ट्रैक की बदहाल हालत होने के बाद भी स्मार्ट सिटी की तरफ से कोई ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे हैं और इसी कारण एक बार फिर बेहतर उद्देश्य के लिए बनाया ये ट्रैक लापरवाही की भेंट चढ़ रहा है।