दिल्ली में चुनाव प्रचार के दौरान विपक्ष पर गरजे मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव

उन्होंने कहा- कि एक ही परिवार के लोगों को मौका देने का जमाना गया। देश में अब किसान परिवार का बेटा मुख्यमंत्री और गरीब परिवार से आया बेटा प्रधानमंत्री बन सकता है। 

Chief Minister Dr. Mohan Yadav in Delhi : मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव 20 मई सोमवार को दिल्ली में चुनाव प्रचार के लिए पहुंचे, यहाँ उन्होंने पार्टी प्रत्याशियों के समर्थन में नॉर्थ वेस्ट दिल्ली और नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में जनसभा की, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने लोकसभा नार्थ वेस्ट दिल्ली के रोहणी में जनसभा को संबोधित करते हुए  विपक्ष पर जमकर कटाक्ष किया उन्होंने कहा- कि एक ही परिवार के लोगों को मौका देने का जमाना गया। देश में अब किसान परिवार का बेटा मुख्यमंत्री और गरीब परिवार से आया बेटा प्रधानमंत्री बन सकता है।

मंदिर बनने में कांग्रेस ने अडंगे क्यों लगाए

सीएम डॉ यादव न कहा कि कांग्रेस या आप पार्टी के प्रत्याशी आएं तो पूछना कि हमारे धर्म से क्या परेशानी है। भगवान राम के मंदिर बनने में कांग्रेस ने अडंगे क्यों लगाए।सीएम डॉ यादव ने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने हमें शिक्षा का महत्व समझाया। उन्होंने उज्जैन में सांदीपनि आश्रम में जो शिक्षा ली उसके बल पर महाभारत के कठिन समय में भी संयम रखते हुए गीता का वाचन किया। इतनी अच्छी शिक्षा को पाठ्यक्रम में शामिल होना चाहिए। लॉर्ड मैकाले की शिक्षा नीति ने केवल कागज की डिग्री लेने लायक बनाया। इससे हम जडों से कट रहे हैं। देश की आजादी के बाद शिक्षा नीति में सुधार हो सकता था लेकिन कांग्रेस ने ऐसा नहीं किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पूर्ण बहुमत की सरकार

सीएम डॉ मोहन यादव ने अपने सम्बोधन में कहा कि-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पूर्ण बहुमत की सरकार बनी तो नई शिक्षा नीति आई। मप्र में हमने सबसे पहले नई शिक्षा नीति के तहत अपने देवी देवताओं के प्रसंगों को पाठ्यक्रम में शामिल किया। जब हम भगवान राम कृष्ण के प्रसंग सुनाता हूं तो विरोधी दल कहते हैँ कि धर्म की बात क्यों करते हो- तो क्या हमें अधर्म की बात करनी चाहिए।  स्व अटल बिहारी वाजपेयी जी की कविता, क्या हार में क्या जीत में किंचित नहीं भयभीत में, यह कविता हो सकती है लेकिन इसको चरितार्थ करने के लिए है, बड़ा ह्रदय चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने करके दिखाया है,कांग्रेसी या आप पार्टी के प्रत्याशी आएं तो पूछना कि हमारे धर्म से क्या परेशानी है। भगवान राम के मंदिर बनने में कांग्रेस ने अडंगे क्यों लगाए। पहले विदेशी मेहमानों को भारत आने पर ताजमहल की प्रतिक्रति भेंट में दी जाती थी, अब हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गीता जी भेंट स्वरूप देते हैं। पीएम मोदी ने पहला वोट साथर्क किया, दूसरे वोट में भगवान राम, बाबा महाकाल, बाबा विश्वनाथ मुस्करा रहे हैं। नई शिक्षा नीति लेकर आए हैं। यहां तक की द्वारका के भेेट द्वारका स्थल पर दर्शन करने के लिए ब्रिज की व्यवस्था की आप अपने वाहन से वहां जा सकते हैं। भगवान श्रीकृष्ण मोरपंख धारण करते हैं, वे संदेश देते हैं कि मैं अपनी जडों से जुडा हूं। वे गोकुल, वृंदावन से जब आए तो अपनी संस्कृति परंपरा का चिन्ह धारण करके रखा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के प्रति श्रृद्धा तब जाती है जब उन्होंने भेट द्वारका में डुबकी लगा कर मोरपंख समर्पित किए। भारतीय जनता पार्टी, सबका साथ सबका विकास कहती ही नहीं करके दिखाती है। चार चार बार यूपी में आपकी सरकार रही है तो क्यों मथुरा में श्रीकृष्ण के मंदिर का काम नहीं हुआ। अयोध्या जी का निमंत्रण कांग्रेस ने ठुकराया था और इनके साथ समाजवादी पार्टी हाथ मिला लेती है। मुलायम सिंह जी को धन्यवाद देता हूं, जिन्होंने मोदी जी को देश के नेतृत्व के लिए शुभकामनाएं दी थी।

दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी 

भारतीय जनता पार्टी दुनिया के सबसे बडी पार्टी है हमारी सदस्यों की संख्या 25 करोड है इसका आशय है कि पाकिस्तान की जनसंख्या जो कि 22 करोड है उससे ज्यादा सदस्य हमारी पार्टी में है। इतनी बडी पार्टी लगातार सरकार बना रही है। एक ही परिवार के लोगों को मौका देने का जमाना गया। देश में अब किसान परिवार का बेटा मुख्यमंत्री और गरीब परिवार से आया बेटा प्रधानमंत्री बन सकता है तो अन्य सभी को अवसर मिल सकता है। संकल्प दिलाते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी को जिताकर, श्री नरेंद्र मोदी जी को तीसरी बार देश का प्रधानमंत्री बनाएंगे, भारत का मान, सम्मान और गौरव बढ़ाएंगे।


About Author
Avatar

Sushma Bhardwaj