जब बीच सभा में महिला को एम्स भोपाल में भर्ती कराने का आदेश दिया सीएम शिवराज ने, सहायता राशि भी की प्रदान, कहा मैं भी तेरा भाई हूं

शिवराज ने तुरंत महिला के इलाज के लिए पचास हजार की राशि भी मुहैया कराई और महिला से कहा कि "एक भाई तेरे पास खड़ा है और तेरा दूसरा भाई मैं हूं"।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। इन दिनों प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेश के विभिन्न इलाकों में जनसेवा अभियान के तहत शिविर लगाकर लोगों को प्रदेश सरकार की विभिन्न योजनाओं के बारे में जानकारी दे रहे हैं। उद्देश्य केवल एक कि जो भी पात्र हितग्राही हैं वे योजना के लाभ से वंचित न रह सके। इतना ही नहीं मुख्यमंत्री जनता को यह भी समझा रहे हैं कि वह उन सभी गलतियों को करने से बचें जिनसे उनका नुकसान हो सकता है।

शिवराज ने लोगों को बताया की पीएम किसान और मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना का खाता अलग अलग होना चाहिए। जिनके नाम खेती की जमीन है और खाता अलग है उनके खाते में ₹10000 हर साल जमा किए जाएंगे। साथ ही सरपंच जिम्मेदारी से इस बात को सुनिश्चित करें कि कोई भी लाभार्थी किसी भी योजना से वंचित ना रहे।

अपने भाषण के दौरान शिवराज को पीछे खड़ी एक महिला की आवाज आई। उन्होंने उस महिला को मंच पर लाने के लिए कहा। उन्होंने महिला से पूछा “बेटी क्या हुआ”, महिला ने शिवराज के सामने अपनी व्यथा रखी जिसके तुरंत बाद शिवराज ने कलेक्टर को पूछा कि इनका अब तक इलाज क्यों नहीं कराया गया। इसके तुरंत बाद शिवराज ने महिला से कहा कि मैं तुम्हारा इलाज एम्स भोपाल में कराऊंगा। शिवराज ने तुरंत महिला के इलाज के लिए पचास हजार की राशि भी मुहैया कराई और महिला से कहा कि “एक भाई तेरे पास खड़ा है और तेरा दूसरा भाई मैं हूं”। शिवराज ने कलेक्टर को आदेश दिया कि महिला को कल हर हालत में एम्स भोपाल पहुंचाया जाए।