सीएम शिवराज सिंह चौहान को मिला अयोध्या आने का निमंत्रण, पढ़ें पूरी खबर

स्वामी रामहर्षणदेवाचार्य जी द्वारा संपन्न श्रीमंत्रराज अनुष्ठान के रजत जयंती महामहोत्सव पर देश के विभिन्न प्रांतों के जगतगुरू, शंकराचार्य, महामंडलेश्वर और दिव्य संतों का समागम राम जन्म -भूमि अयोध्या में हो रहा है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) को अयोध्या में 5 अक्टूबर से 14 अक्टूबर तक हो रहे विशेष धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने का निमंत्रण मिला (CM Shivraj Singh Chauhan got invitation to come to Ayodhya) है। आज गुरुवार को मुख्यमंत्री निवास पर पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ल के साथ सतना जिले के प्रमुख संतों ने सीएम शिवराज से भेंटकर उन्हें कार्यक्रम के लिए निमंत्रित किया ।

मुख्यमंत्री को संतों ने बताया कि स्वामी रामहर्षणदेवाचार्य जी द्वारा संपन्न श्रीमंत्रराज अनुष्ठान के रजत जयंती महामहोत्सव पर देश के विभिन्न प्रांतों के जगतगुरू, शंकराचार्य, महामंडलेश्वर और दिव्य संतों का समागम राम जन्म -भूमि अयोध्या में हो रहा है। विश्व के अन्य देशों के संत भी इसमें शामिल होंगे।

ये भी पढ़ें –

ये भी पढ़ें – लव जिहाद पर संस्कृति मंत्री ऊषा ठाकुर का बड़ा बयान, गरबा आयोजकों को दी ये चेतावनी

विराट संत सम्मेलन में 108 कुण्डीय श्रीराम मंत्र महायज्ञ, 501 श्रीमद् भागवत पारायण, वाल्मीकि रामायण (रामकथा), 13 करोड़ षड़ाक्षर श्रीराम मंत्र जप एवं विशाल कलश यात्रा भी होगी। यह कार्यक्रम श्री रामहर्षण मैथिल सख्य पीठधर्मार्थ सेवा ट्रस्ट, चारूशीला मंदिर जानकी घाट श्री अयोध्या धाम में होगा।

ये भी पढ़ें – भोपाल : संस्कृति बचाओ मंच ने दी अब चेतावनी, गरबा पंडालों में पंचगव्य पिलाकर दिया जाए प्रवेश

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि यह सम्मेलन निश्चित ही व्यापक रूप से भक्त जन को परस्पर जोड़ेगा। मध्य प्रदेश से भी इसमें सहभागिता रहेगी। कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी आमंत्रित किया गया है। इस दौरान रामकथा व्यास श्रीमद् जगद्गुरु द्वाराचार्य श्री 108 डॉ. श्री राजेंद्र देवाचार्य जी एवं श्रीमद् जगद्गुरु रामानंदाचार्य और श्री 1008 स्वामी श्री वल्लभाचार्य जी महाराज का भी सानिध्य प्राप्त होगा। वे इसमें अवश्य शामिल होंगे।

ये भी पढ़ें – पोषण आहार घोटाले पर नरोत्तम मिश्रा का आम आदमी पार्टी पर आरोप, कहा- ‘विषयांतर की कोशिश’