कमलनाथ के मंत्री के खिलाफ FIR दर्ज, कांग्रेस ने आयोग को दी धरना-प्रदर्शन की धमकी

गोविंद सिंह राजपूत

भोपाल। चुनाव से पहले कांग्रेस को दूसरा बड़ा झटका लगा है। अब कमलनाथ सरकार में परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। राजपूत के खिलाफ पीएम मोदी के लिए अमर्यादित भाषा का प्रयोग करने व आचार संहिता का उल्लंघन करने के कारण मामला दर्ज किया गया है। इस संबंध में भाजपा ने आयोग से राजपूत की शिकायत की थी।  इससे पहले आयोग ने ‘चौकीदार चोर है” विज्ञापन पर रोक लगा दी थी।

दरअसल, बीते  2 अप्रैल को सागर जिले में एक कार्यकर्ता सम्मेलन में मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया था। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ अपशब्द बोले थे। जिसके बाद बीजेपी ने उनकी चुनाव आयोग से शिकायत की थी। इस मामले में जिला निर्वाचन अधिकारी एवं कलेक्टर प्रीति मैथिल ने मंत्री को निर्दोष बताया था, लेकिन जब मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने रिमार्क लगाया तो कलेक्टर ने एफआईआर दर्ज करा दी। राजपूत के खिलाफ पीएम मोदी के लिए अमर्यादित भाषा का प्रयोग करने व आचार संहिता का उल्लंघन करने के कारण मामला दर्ज किया गया है। मंत्री के खिलाफ गुरूवार को मकरोनिया थाने में प्रकरण दर्ज कराया गया है| 

बीजेपी कहना था कि राजपूत ने आदर्श चुनाव आचार संहिता का भी उल्लंघन किया है। बीजेपी ने सीईओ से राजपूत सहित दो अन्य मंत्री (बृजेंद्र सिंह राठौर और हर्ष यादव) के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी। लेकिन फिलहाल राजपूत पर ही कार्रवाई की गई है। वही कार्रवाई पर प्रदेश कांग्रेस ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव पर भाजपा के दबाव में काम करने का आरोप लगाया। साथ ही चेतावनी दी कि उनका यही रवैया रहा तो हमें शिकायत करने के साथ धरना-प्रदर्शन करना होगा।

‘चौकीदार चोर’ के विज्ञापन पर बैन

इससे पहले हाल ही में मध्य प्रदेश निर्वाचन आयोग ने कांग्रेस के ‘चौकीदार चोर है’ विज्ञापनों के प्रसारण पर रोक लगा दी थी। जिसमें वीडियो और फोटोज के माध्यम से  पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी पर निशाना साधा गया था। जो कि आचार संहिता के उल्लंघन में पाया गया था, जिसके बाद बैन लगा दिया गया था।