ऑक्सीजन कंसंट्रेटर

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल (Bhopal) में आज गुरुवार को साइबर क्राइम ब्रांच भोपाल द्वारा ओक्सीजन कंसंट्रेटर के नाम पर धोखाधडी करने वाली अंतर्राज्यीय दिल्ली गैंग का खुलासा किया गया है। साइबर क्राइम ब्रांच भोपाल (cyber crime branch bhopal) ने ऑक्सीजन कंसंट्रेटर (oxygen concentrator) बेचने का झांसा देकर 18 लाख रुपये की ठगी करने वाले गिरोह के 3 लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरोह के सदस्‍य फरीदाबाद, हैदराबाद में भी कई लोगों से धोखाधड़ी कर चुके हैं। आरोपियों को फरीदाबाद पुलिस की कार्रवाई पर गुड़गांव व फरीदाबाद जेल भेजा गया है।

यह भी पढ़े.. निकाय चुनाव: पार्षद करेंगे महापौर और अध्यक्ष का चुनाव, जयवर्धन बोले-फिर BJP ने विरोध क्यों किया था

दरअसल,  भोपाल के हबीबगंज निवासी अक्षय जैन द्वारा शिकायत की गई थी इनकी स्वयं की ट्रू विनकॉम प्राइवेट लिमिटेड कंपनी है और सामाजिक कार्य करते है। इसलिए कोरोना के दौरान कुछ लोगों को ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की आवश्यकता होने पर फरियादी द्वारा ऑक्सीजन कंसंट्रेटर सप्लायर का नंबर गूगल पर तलाश किया गया। तलाश के दौरान फरियादी को इण्डिया मार्ट की साइड से ऑक्सीजन कंसंट्रेटर सप्लायर का नंबर प्राप्त हुआ। जिससे बात करने पर उसने अपना नाम विपिन शर्मा बताया और 10 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के कुल 18 लाख रूपये में खरीदने का सौदा तय किया। विपिन शर्मा ने अपनी फर्जी मेल आईडी से टेक्स इनव्हाइस फरियादी को भेजा और इसके आधार पर फरियादी ने 4.5 लाख के चार बार में कुल 18 लाख रूपये विपिन शर्मा नामक व्यक्ति के द्वारा दिये गये खाते में डाल दिये। खातों से प्राप्त जानकारी के आधार पर अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना की गई ।

इसके बाद फरियादी द्वारा ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के लिए इण्डिया मार्ट की साइट से लिए गये नंबर पर जब कॉल किया गया तो आरोपी विशाल उर्फ रोहदास विपिन शर्मा ने स्वयं को सुरभि इंटरप्राइज़ेज नामक बंबई की कंपनी का कर्मचारी बता कर अक्षय जैन से बात की और कुल 10 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के 18 लाख रूपये में सौदा तय किया। इसके पश्चात् आरोपी ने फर्जी मेल आईडी विपिन शर्मा नाम से बना कर फरियादी को उसकी Gmail Id पर 04 टेक्स इनव्हाइस भेजे। Tax Invoice पर आरोपी द्वारा सुरभि इंटर प्राइजे़ज कंपनी, बंबई का GSTN नंबर भी डाला गया। फरियादी को Tax Invoice सही लगा जिसके कारण फरियादी ने 4.5 लाख के 04 ट्रांजेक्सन कर कुल 18 लाख रूपये आरोपी के खाते में रूपये जमा किये। फर्जी खाते आरोपीग के थे, जिससे पैसा निकाला गया इन खातो (Bank Account) में आरोपी द्वारा फर्जी आइडी का प्रयोग किया गया है।

यह भी पढ़े.. मध्य प्रदेश में जल्द हो सकते है नगरीय निकाय चुनाव, आयुक्त ने दिए संकेत

अरोपी कर्ज चुकाने में ठगी की राशि का प्रयोग कर रहे थे और इस तरह की वारदात भोपाल, फरीदाबाद, हैदराबाद जिलों में की गई जिसके साक्ष्य सामने आये। सभी आरोपियों को फरीदाबाद पुलिस की कार्यवाही पर गुडगांव व फरीदाबाद जेल में निरूद्ध किया गया है। सायबर क्राइम जिला भोपाल की टीम द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए आरोपी के खाते में 07 लाख रूपये फ्रीज किये गये है, जिसका लाभ फरियादी को प्राप्त होगा।यह कार्रवाई अति. पुलिस महानिदेशक भोपाल जोन, भोपाल ए. साईं मनोहर व पुलिस उप महानिरीक्षक शहर  इरशाद वली के दिशा निर्देशानुसार व पुलिस अधीक्षक (दक्षिण)  सांई कृष्णा थोटा के निर्देश के पालन में अति पुलिस अधीक्षक जोन-1 भोपाल  अंकित जायसवाल एवं उप पुलिस अधीक्षक सायबर नीतू सिंह ने की है।

इन आरोपियों को किया गिरफ्तार

1-नितिश अग्रवाल पिता राजीव अग्रवाल निवासी 4/54 नेहरू गली विश्वास नगर नार्थ ईस्ट दिल्ली वर्तमान पता फ्लैट नंबर ए810 ओएक्सवाय होम्स नियर कोयल एन्कलेव गाजीयाबाद भोपुरा उ0प्र0 खाता का उपयोगकर्ता।

2- अभिनव उर्फ विजय मलिक पिता राजीव खंडेलवाल निवासी म.न. 388 गली नंबर 6 ज्वाला नगर शाहदरा दिल्ली खाताधारक।

3- विशाल उर्फ रोहदाश पिता स्व0 कालीचरण शर्मा निवासी गांव दुमेडी थाना इगलाशजिला अलीगढ उ0प्र0 इनव्हाइस मेल करना, ग्राहको से फोन पर बात करना।