कड़ाके की ठंड और घने कोहरे के बीच लाखों श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

भोपाल। मध्य प्रदेश में मकर संक्रांति पर्व पर पवित्र नदियों शिप्रा और नर्मदा के तटों पर स्नान के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ सुबह से उमड़ी रही|  प्रदेश में घने कोहरे और ठंड के बीच भी नदियों के किनारे अल सुबह से श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। कडक़ड़ाती ठंड में श्रद्धालुओं ने नदियों में डुबकी लगायी। उज्जैन में रामघाट सहित अन्य घाटों पर सुबह से श्रद्धालुओं का स्नान के लिए पहुंचना जारी है। यहां श्रद्धालुओं के लिए घाटों पर सिंहस्थ की तरह व्यवस्था की गई है। होशंगाबाद के सेठानी घाट, जबलपुर के ग्वारीघाट और नरसिंहपुर, ओंकारेश्वर, नेमावर और मोरटक्का में बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं। 

मकर संक्रांति पर पवित्र नदियों में स्नान को बहुत विशेष माना जाता है। मां नर्मदा की नगरी होशंगाबाद में बड़ी संख्या में नर्मदा घाटों पर स्नान के लिए श्रद्धालु पहुंचे। यहां साधु, संत व श्रद्धालुओं को तिल, गुड़ व खिचड़ी का दान किया जा रहा है। महिलाएं भी हल्दी-कुमकुम का आयोजन कर एक-दूसरे को सुहाग सामग्री प्रदान कर रही है। पुलिस के 200 जवान यहां विभिन्न घाटों पर तैनात हैं। रेलवे की ओर से श्रद्धालुओं को यहां पहुंचाने के लिए 6 ट्रेंने भी चलाई गई हैं। इसके अलावा उज्जैन के रामघाट पर प्रशासन द्वारा स्नानार्थियों के लिए घाटों की पर्याप्त सफाई करवाई गई है। घाट पर यात्रियों को स्वास्थ्य सहायता देने के लिए एंबुलेंस भी तैनात है। इसके अलावा तैराक और पुलिस बल भी तैनात किया गया है। 

महाकाल मंदिर में दिव्यांगों को वीआईपी का दर्जा

मकर संक्रांति पर्व के अवसर पर उज्जैन स्थिति ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में कलेक्टर शशांक मिश्र ने दिव्यांगों की सुविधा के लिए कोटा सिस्टम लागू किया है। अब से यहां दिव्यांगों को वीआईपी का दर्जा मिलेगा। महाकाल मंदिर समिति प्रतिदिन 20 दिव्यांग व उनके अटेंडर को प्रोटोकॉल के तहत भस्मारती की अनुमति देगी। यह पहला मौका है जब दिव्यांगों को भस्मारती अनुमति में विशेष कोटा जारी किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here