मंत्री विश्वास सारंग ने भोपाल में शुरू की ‘स्वस्थ आहार सेवा’ योजना, मरीजों को मिलेगा निःशुल्क भोजन

राजधानी भोपाल में कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए 'स्वस्थ आहार सेवा' योजना की शुरुआत की है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग (Medical Education Minister Vishwas Sarang) ने राजधानी भोपाल (Bhopal) में कोरोना (Corona) संक्रमित मरीजों के लिए ‘स्वस्थ आहार सेवा’ योजना की शुरुआत की है। मंत्री ने कहा कि योजना आज से राजधानी में शुरू हुई है, जिसमें एनजीओ और सामाजिक संस्थाओं की मदद से अस्पतालों को हेल्दी फूड पहुंचाया जाएगा।

यह भी पढ़ें…भोपाल- हफ्ते में 2 दिन खुलेंगे पेट्रोल पंप! कलेक्टर ने कहा और सख्ती की जाएगी

मंत्री सारंग ने मीडिया से चर्चा करते हुए बताया कि क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक के दौरान यह बात सामने आई थी हमारे जो सरकारी अस्पताल है वहां पर तो हम मरीजों को भोजन उपलब्ध करा रहे हैं लेकिन ऐसे बहुत से अस्पताल है जहां पर मरीजों को भोजन नहीं मिल पा रहा है जिसके कारण उनके परिजनों को घर से भोजन लेकर आना पड़ता है। परिजनों को लॉकडाउन (Lockdown) के कारण अस्पतालों में मरीजों को खाना पहुंचाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है वही अपने कोरोना मरीज के लिए जो परिजन भोजन लेकर अस्पताल जाते हैं उनके ऊपर भी संक्रमण का खतरा बना रहता है इसलिए पायलेट प्रोजेक्ट के तहत आज से राजधानी भोपाल के 110 अस्पताल में मरीजों को निःशुल्क भोजन की व्यवस्था सरकार ने चालू की है। उन्होंने कहा कि यह प्रयोग अभी भोपाल में किया जा रहा है अगर यह प्रयोग सफल होता है तो इसे प्रदेश के और स्थानों पर भी शुरू करेंगे। मंत्री सारंग ने बताया कि निःशुल्क स्वस्थ्य आहार सेवा योजना के लिए एक हेल्प लाइन नंबर भी जल्दी शुरू किया जा रहा। इस नंबर पर मरीज के परिजन जिस अस्पताल में मरीज भर्ती हैं वहां भोजन पहुंचवाने के लिए मदद मांग सकेंगे ।

यह भी पढ़ें…अशोकनगर: कोरोना मरीजों का मनोबल बढ़ाने विधायक ने कोविड वार्ड में कराया हनुमान चालीसा पाठ

वही मंत्री विश्वास सारंग ने कोरोना को लेकर चल रही व्यवस्थाओं पर चर्चा करते हुए बताया कि हमने हर जिले में यह सुनिचित किया कि बिस्तर की व्यवस्था हो और शुरूआती लक्षण में छोटे अस्पतालो में मरीज़ भर्ती होता है या वो लेट भर्ती होता है जिस पर हमने यह सुनिचित किया है कि मरीज के कोरोना टेस्ट से पहले ही मरीज को कोरोना के लक्षण दिखने पर ही प्रथमिकता सहायता कोरोना किट उपचार में इस्तेमाल करे। अभी तक कोरोना सहायता केंद्र हमने शहरी क्षेत्र में ही बनाये थे अब ग्रामीण क्षेत्र में भी बना रहे है। वही 18 से ज्यादा उम्र के लोगो को वैक्सीन लगाने की व्यवस्था पर सारंग ने बताया कि कल से 18 से ज्यादा उम्र के लोगो को वैक्सीनेशन किया जाएगा। साथ ही उन्होंने बताया कि वैक्सीन बनाना जितना चुनौती पूर्ण था उतना वैक्सीन लगाना भी चुनौती पुर्ण हैं। हमने 45 लाख डोज का ऑर्डर दिया है, डोज आना भी शरू हो गया है। इसको लेकर मॉकड्रिल भी हो चुकी है।