bjp-senior-leader-not-given-statement-against-jyotiraditya-scindia

भोपाल।शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार के बाद राज्यसभा सांसद और बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बड़ा बयान दिया है। सिंधिया ने कहा कि  ये सिर्फ मंत्री मंडल का विस्तार नही हुआ है बल्कि जनसेवकों की टीम का गठन हुआ है। मंत्रि मंडल का गठन केवल त्योहार की तरह नही मनना चाहिए बल्कि जिमेदारी से लेना चाहिए। एक एक जनसेवक प्रथम जनसेवक शिवराज जी के नेतृत्व में मप्र की जनता के लिए समर्पित होकर काम करेंगे।अब मैं देख रहा हूं कि पिछले दो महीने से ये लोग (कांग्रेस) लोग चरित्र को धूमिल करने की कोशिश कर रहे हैं। मैं इन्हें कहना चाहता हूं कि टाइगर अभी जिंदा है।वही उन्होंने 24 सीटों पर भाजपा की जीत का दावा किया है। इस दौरान सिंधिया ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ-दिग्विजय पर भी जमकर हमला बोला।

मंत्रिमंडल विस्तार में हुई देरी पर सिंधिया ने कहा कि बीजेपी इन दिनों कोरोना महामारी से लड़ रही थी, ऐसे में मंत्री मंडल का विस्तार करना ऐसी बीजेपी की मानसिकता नही है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा जी ने ये ही निर्णय लिया था कि पहले महामारी से लड़ेंगे फिर मंत्री मंडल का विस्तार होगा।

वही सिंधिया ने दावा करते हुए कहा कि 24 सीटों विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं, मेरी जनता 15 महीने की भ्रष्टों की सरकार को जवाब देगी। न्याय के रास्ते पर चलना हम सबका धर्म है। अगर उसके लिए युद्ध भी करना पड़े तो ज्योतिरादित्य सिंधिया हमेशा पहली पंक्ति में खड़ा रहेगा।ज्योतिरातदित्य सिंधिया ने कहा कि कोरोना काल के दौरान मैं भले ही ग्वालियर-चंबल अंचल में नहीं था, लेकिन सभी कार्यकर्ताओं के संपर्क में था। सिंधिया फाउंडेशन के द्वारा लोगों को भोजन उपलब्ध करवाया गया है। इसी के विदेश में फंसे कई लोगों को हम वापस देश लेकर भी आए हैं।

इस दौरान सिंधिया ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ-दिग्विजय पर जमकर हमला बोला। कांग्रेस के आरोपो पर सिंधिया ने कहा कि काँग्रेस चटपटा रही है। कांग्रेस को काला दिवस उस दिन माना चाहिए जिस दिन देश मे एमरजेंसी लगी थी। सिंधिया ने शायराना अंदाज में कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस जनता स  भटक गई है, अपने मे सिमट गई है। मैं देख रहा हु 90 दिनों से जो जनता महामारी से जूझ रही है कमलनाथ ओर दिग्विजय सिंह उनकी चिंता नही है उनको मिर्ची इस बात की है कि उनकी कुर्सी चली गई है।