Shivraj Singh Chauhan

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट| मध्य प्रदेश (Madhyapradesh) में कलेक्टर (Collector) का पदनाम (Designation) ‘कलेक्टर’ ही रहेगा| कलेक्टर का पदनाम बदलने के लिए पूर्व की कमलनाथ सरकार (Kamalnath Government) में गठित पांच आईएएस अफसरों की समिति को शिवराज सरकार ने निरस्त कर दिया है|

दरअसल, कांग्रेस सरकार बनने के बाद जब कमलनाथ जब मुख्यमंत्री बने थे, तो उनकी इच्छा थी कि कलेक्टर का पदनाम बदला जाए| उनका कहना था कि ‘कलेक्टर’ पदनाम अंग्रेजों के जमाने का है यह अच्छा नहीं लगता। कमलनाथ के एलान को अमल में लाने के लिए तत्कालीन सरकार ने पांच अफसरों की एक कमेटी भी गठित की थी|

इस कमिटी को सांसद, विधायक, नगरीय निकायों के जनप्रतिनिधि, कर्मचारी संगठन सहित विभिन्न् वर्गों से बात कर मुख्यमंत्री को रिपोर्ट सौंपनी थी| लेकिन 15 महीने में ही कमलनाथ सरकार नहीं रही और अब वर्तमान की शिवराज सरकार ने इस कमेटी को निरस्त कर दिया है| शिवराज सरकार में कलेक्टर साहब ‘कलेक्टर’ ही कहलायेंगे|

शिवराज सरकार का निर्णय- कलेक्टर साहब बने रहेंगे 'कलेक्टर'