गुना केस में हटाए गए कलेक्टर विश्वनाथन को शिवराज सरकार का तोहफा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट
बीते महिने जिस गुना कलेक्टर एस विश्वनाथन (Guna Collector S. Vishwanathan) को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान  (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने दलितों से मारपीट के मामले में तत्काल प्रभाव हटा दिया था, अब उसी को राखी से पहले महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी है। प्रदेश की शिवराज सरकार ने पर्यटन विकास निगम का एमडी बनाया है। राज्य सरकार ने आदेश जारी करते हुए प्रदेश शासन में उप सचिव और 2008 बैच के आईएएस (IAS) अधिकारी एस विश्वनाथन को पर्यटन विकास निगम का एमडी बनाया है।

दरअसल, प्रदेश में कोरोना संकट के बढ़ते संक्रमण के बीच 15 जुलाई को गुना में दलित किसान से मारपीट केस सामने आया था, जिस पर जमकर सियासत गर्माई थी। इसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना को गंभीरता से लेते हुए उच्च स्तरीय जांच के निर्देश दिए थे और गुना के कलेक्टर-एसपी को तत्काल प्रभाव से हटा दिया था।वही इस मामले में पुलिस मुख्यालय ने रिपोर्ट तैयार की थी और पुलिसकर्मियों को क्लीनचिट दे दी थी। इस रिपोर्ट में साफ किया गया है कि गुना मामले में पुलिस की कोई गलती नहीं थी।अभी इस घटनाक्रम को एक महिना भी नही बीता था कि अब शिवराज सरकार ने विश्वनाथन को पर्यटन विकास निगम का एमडी बनाकर राखी का तोहफा दे दिया है।

गौरतलब है कि बीते दिनों मध्य प्रदेश के गुना जिले में सरकारी जमीन से अवैध कब्जा हटाने के लिए पुलिस बल का एक दस्ता घटनास्थल पर पहुंचा था। जहां दलित किसान परिवार के साथ पुलिस कर्मियों के मारपीट का वीडियो वायरल हुई थी। वहीं पुलिस कर्मियों द्वारा खेत में दलित किसान के खड़ी फसल को जेसीबी से रौंद दिया गया था। जिससे परेशान होकर पीड़ित दंपति ने कीटनाशक पीकर अपनी जान देने की कोशिश की थी।हालांकि अस्पताल में भर्ती कराए जाने के बाद किसान दंपति स्वस्थ हो गए। वहीं प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसपर तत्काल एक्शन लेते हुए गुना के कलेक्टर एसपी सहित ग्वालियर के आइजी को तत्काल प्रभाव से हटा दिया था। वही दो दिवसीय जांच दल टाइम इस मामले की जांच करने गुना पहुंची थी और जांच रिपोर्ट में पीएचक्यू ने पुलिसकर्मियों को क्लीनचिट दे दी थी। अभी मामला ठंडा हुआ ही था कि अब सरकार ने कलेक्टर को एमपी बनाकर नया मोड दे दिया है।