BUS

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना संक्रमण के चलते मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र के बीच संचालित अंतर्राज्यीय बसों पर लगे प्रतिबंध को 30 जून तक बढ़ा दिया गया है। इससे पहले 15 जून को मध्य प्रदेश की सीमावर्ती राज्यों के साथ परिवहन पर लगाई गई पाबंदी को सरकार ने हटा लिया थे। लेकिन महाराष्ट्र के साथ प्रदेश का आवागमन बंद रखा गया था, जिसे फिर बढ़ा दिया गया है। इस सम्बंध में मंगलवार को परिवहन विभाग ने आदेश जारी कर दिए हैं।

ऊर्जा मंत्री का एक्शन-लापरवाही पर 2 अधिकारियों को शोकॉज नोटिस, 2 को चेतावनी

राज्य के सभी जिलों में संक्रमण कम हो गया है पर महाराष्ट्र में अभी मामले सामने आ रहे हैं। महाराष्ट्र राज्य से यात्रियों के आने के कारण अनियंत्रित भीड़ से पुनः प्रदेश में संक्रमण बढ़ सकता है। इसी को ध्यान में रखकर यह निर्णय लिया गया है। राज्य के राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने बताया कि स्थगन की अवधि 22 जून से बढ़ा कर 30 जून 2021 तक कर दी गई है। परिवहन मंत्री के निर्देश पर इस संबंध में महाराष्ट्र राज्य के लिए परिवहन विभाग ने आदेश जारी किये गये है। सचिव राज्य परिवहन प्राधिकार एवं अपर परिवहन आयुक्त (प्रवर्तन) मप्र अरविंद सक्सेना ने मंगलवार 22 जून को इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। आदेश के अनुसार मध्यप्रदेश राज्य की समस्त यात्री बस वाहनों का महाराष्ट्र की सीमा में प्रवेश तथा इस राज्य के यात्री बस वाहनों का मध्यप्रदेश की सीमा में प्रवेश 22 जून से बढ़ाकर 30 जून तक प्रतिबंधित किया गया है। बता दें कि पिछले तीन महीने से राजस्थान, उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ से यात्री बसों के आवागमन पर लगी पाबंदी को कुछ दिन पहले ही सरकार ने हटा लिया था।

महाराष्ट्र के साथ 30 जून तक अंतर्राज्यीय बस परिवहन सेवा पर प्रतिबंध बढ़ा