बीजेपी विधायक ने अपनी ही पार्टी के सांसद की जयचंद से की तुलना

त्रिपाठी ने जनता से अपील की है कि ऐसे सभी जयचंदों को जनता चिन्हित करें जिन्होंने विंध्य में रहकर विंध्य की जनता के दम पर शोहरत और नाम हासिल किया है।

बीजेपी विधायक

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। बीजेपी के मुखर विधायक नारायण त्रिपाठी ने पार्टी सांसद गणेश सिंह पर हमला बोला है। उन्होंने गणेश सिंह के एक बयान को लेकर बयान को मातृभूमि का अपमान बताया है। विंध्य और बुंदेलखंड के पिछड़ेपन के लिए उन्होंने नेताओं को जिम्मेदार ठहराया है।अलग विंध्य प्रदेश की मांग के लिए लगातार अपना आंदोलन चला रहे विधायक नारायण त्रिपाठी के निशाने पर इस बार सांसद सतना गणेश सिंह हैं।

MPPEB Result 2021: उम्मीदवारों का इंतजार हुआ खत्म, बोर्ड ने जारी किया रिजल्ट, देखें यहां

दरअसल गणेश सिंह ने अपने एक बयान मे विंध्य क्षेत्र को काल्पनिक बताया था, जिस पर तीखी प्रतिक्रिया करते हुए मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी ने कहा है कि गणेश सिंह का यह बयान देशद्रोह की श्रेणी में आता है। ऐसा बचकाना बयान विंध्य की, हमारी मातृभूमि की अस्मिता के साथ खिलवाड़ और उसका अपमान है। सांसद पर करारा हमला बोलते हुए विधायक त्रिपाठी ने कहा कि ऐसे जयचंदो की वजह से ही हमारे विंध्य प्रदेश का मध्य प्रदेश में विलय कर लिया गया जिसका खामियाजा हमें भुगतना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि विंध्य में आज आईआईटी , आईआईएम की कल्पना तक नहीं की जा सकती। युवा रोजगार के लिए पलायन कर रहा है। किसान परेशान है। व्यवसाई परेशान है। विंध्य को राज्य बनाने के लिए सभी अनुकूल परिस्थितियां हैं लेकिन इनमें कोई लीडरशिप नहीं केवल चमचे हैं जो चमचागिरी कर अपना व्यापार और अस्तित्व बचा रहे हैं। त्रिपाठी ने जनता से अपील की है कि ऐसे सभी जयचंदों को जनता चिन्हित करें जिन्होंने विंध्य में रहकर विंध्य की जनता के दम पर शोहरत और नाम हासिल किया है। लेकिन आज विंध्य के अस्तित्व को ही काल्पनिक बता रहे हैं। त्रिपाठी ने कहा कि आज विंध्य बुंदेलखंड सबसे ज्यादा पिछङेपन की जो मार सह रहा है उसकी जिम्मेदारी नेताओं को जाती है।