ग्वालियर, अतुल सक्सेना।  अजयपुर की पहाड़ी पर पांच दिन पहले पत्थर से दबे मिले 11 वर्षीय मासूम के अंधे कत्ल (Blind Murder) का खुलासा पुलिस ने कर दिया है। हत्या (Murder) करने वाला कोई नहीं मासूम का मौसा है जिसने बच्चे के गले में डले सोने के ॐ लॉकेट और कान में पहनी सोने की बालियों (Gold Locket and Earring) के लिए उसकी हत्या (Murder) कर दी। पुलिस  ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।  आरोपी ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है।  पुलिस की इस सफलता को देखते हुए आईजी ग्वालियर (IG Gwalior) ने अंधे कत्ल का खुलासा करने वाली टीम को 25 हजार रुपये कैश रिवार्ड देने की घोषणा की है। पुलिस ने इस अपराध को जिले के जघन्य और सनसनीखेज अपराध की श्रेणी में रखा है।

ग्वालियर के गिरवाई थाना क्षेत्र में अजयपुर की पहाड़ी पर पुलिस को 10 जून को पत्थर से दबा 11 वर्षीय मासूम बालक का शव मिला था।  बच्चा एक दिन पहले 9 जून को घर से गायब हुआ था जिसकी शिकायत गिरवाई थाने में परिजनों ने कराई थी।  शव मिलने के बाद पुलिस ने आरोपी को तलाश करने की कोशिश शुरू कर दी।  एसपी अमित सांघी (SP Amit Sanghi) ने मीडिया को जानकारी दी कि मामला गंभीर था इसलिए इसमें एडिशनल एसपी पश्चिम एवं क्राइम सतेंद्र सिंह तोमर, सीएसपी लश्कर आत्माराम शर्मा, थाना प्रभारी गिरवाई रघुवीर मीणा और क्राइम ब्रांच की टीम को संयुक्त रूप से लगाया।

ये भी पढ़ें – सटोरिये के साथ पार्टी करना पड़ा महंगा, चार पुलिसकर्मी लाइन अटैच

जब पुलिस ने ग्राउंड पर जाकर पूछताछ शुरू की तो मालूम चला कि मृतक का एक रिश्तेदार बदमाश है जो पास में ही रहता है, उसका हाथ इस हत्या में हो सकता है।  पुलिस ने जब संदेही रिश्तेदार को उठाया और कड़ी पूछताछ की तो उसने हत्या करना स्वीकार कर लिया। एसपी अमित सांघी ने बताया कि आरोपी ने पुलिस को बताया कि मृतक मासूम उसे मौसा बोलता था 9 जून को वो मृतक मासूम के साथ मंदिर पर बैठा था।  तभी उसकी नजर बच्चे के गले में डले सोने के ॐ के लॉकेट और कान में पहनी सोने की बालियों पर पड़ी। वो बच्चे को आम तोड़ने के बहाने अजयपुर की पहाड़ी पर ले गया।

ये भी पढ़ें – मंत्री विश्वास सारंग ने कांग्रेस पर साधा निशाना, दिग्विजय के लिए कही यह बात

पहाड़ी पर पहुंचकर आरोपी ने बच्चे के गले में पड़े सोने के ॐ के लॉकेट को जोर से खींचा लेकिन धागा मजबूत होने के कारण नहीं टूटा और बच्चा बेहोश हो गया आरोपी को लगा बच्चा मर गया तो वो उसे झाड़ियों में ले गया और एक गड्ढे में पटक दिया फिर उसके गले से लॉकेट और कान से बालियां निकाली उसके बाद पास में पड़ा बड़ा सा पत्थर बच्चे के सिर पर पटक दिया और पास में पड़े कपड़ों से शव को ढँक दिया।  बाजार में आकर उसने सोने के लॉकेट और बालियों को स्थानीय ज्वेलर को 1850 रुपये में बेच दिया।

ये भी पढ़ें – नीमच : नाबालिग का सौदा कर जबरदस्ती कर दी थी शादी, 3 पुरुष व 3 महिला गिरफ्तार

एसपी ने बताया कि  किसी को उसपर शक ना हो इसलिए आरोपी ने बच्चे को ढूंढने का प्रयास का नाटक भी किया, बाद में बच्चे के अंतिम सस्कार में भी शामिल हुआ।  एसपी ने कहा कि पूरी टीम ने बहुत मेहनत की और हत्या के बाद पांच दिनों में ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया  गया।  ग्वालियर पुलिस की इस सफलता को देखते हुए आईजी ग्वालियर जोन अविनाश शर्मा ने अंधे कत्ल का खुलासा करने वाली टीम को 25 हजार रुपये का कैश रिवार्ड देने की घोषणा की है।  एसपी ने कहा कि हमने इस अपराध को जिले के जघन्य और सनसनीखेज अपराधों की श्रेणी में रखा है।

https://vimeo.com/563190735