छतरपुर, संजय अवस्थी। ग्राम ईशानगर मे निवास करने वाले एक व्यक्ति ने पुलिस (police) पर प्रताड़ना ( harassment) का आरोप लगाते हुए आत्महत्या की चेतावनी दी है। शेख कुदरत ने सोमवार को अपने पूरे परिवार सहित पुलिस अधीक्षक कार्यलय में पहुँचकर ईशानगर थाने में पदस्थ आरक्षकों के खिलाफ कार्यवाही करने को लेकर एक ज्ञापन सौंपा।

फरियादी का कहना है कि उनके बेटे को पुलिस जबरन पकड़कर ले गई और हवालात में उसके साथ जबरन मारपीट की गई। उसने रो रोकर बताया कि मैं और मेरा परिवार ग्राम ईशानगर मे निवास करते हैं। खेती किसानी ओर दो लड़के छोटे मोटे काम करके साधारण जीवन जीते है। पीड़ित का आरोप है कि थाना ईशानगर में पदस्थ आरक्षक राजेन्द्र सिंह, सतीश यादव, अवदेश मीणा द्वारा उसके पूरे परिवार को बेवजह परेशान किया जा रहा है। ईशानगर थाने में पदस्थ आरक्षक अवैध वसूली करने के लिए घर पर आए थे, प्रार्थी द्वारा मना किए जाने के बाद थाना प्रभारी और पुलिस अधीक्षक से शिकायत करने को कहा तो इन लोगों के द्वारा झूठे प्रकरण में जेल भिजवाने की धमकी दी गई तथा अवैध वसूली की जाने लगी। प्रार्थी द्वारा मना कर दिए जाने के बाद उसके बड़े पुत्र शेख सरदार को जब वह घर से तालाब की तरफ बर्फ की सिल्ली लेने जा रहा था तो उसे रास्ते में रोककर मारपीट की गई तथा ओर अवैध वसूली की गई। पीड़ित के मुताबिक उसके दूसरे पुत्र शेख शाहिद को पकड़ लिया और फर्जी मुकदमा दर्ज करने की धमकी दी गई और थाने ले जाया गया और रात मे शेख शाहिद को छोड़ने के लिए प्रार्थी से 3000 रुपये लिए गए तब जाकर प्रार्थी के पुत्र को रात् में 9 बजे छोड़ा गया था। उनका कहना है कि आए दिन प्रार्थी व प्रार्थी के परिवार से अवैध वसूली की जा रही है। इसके बाद उन्होने परिवार सहित पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचकर एक ज्ञापन सौंपा और ईशानगर थाने में पदस्थ राजेंद्र सिंह,सतीश यादव,अवधेश मीणा से सुरक्षा एवं संरक्षण प्रदान करने की मांग की है। इसी के साथ साथ ही पीड़ित ने चेतावनी दी है कि अगर उनके साथ ये प्रताड़ना जारी रही और न्याय नहीं मिला तो वो तो जहर खाकर आत्महत्या कर लेंगे।