Chhatarpur News : NHAI अधिकारी के घर सीबीआई टीम ने मारा छापा, कई ठिकानों पर एजेंसी कर रही कार्रवाई

सीबीआई की टीम इन सभी 6 लोगों को एनएचएआई के वाहनों में ही बैठाकर जिला अस्पताल लेकर पहुंची। यहां सभी अधिकारियों, कर्मचारियों और पकड़े गए लोगों के मेडिकल कराए गए और इसके बाद इन सभी को लेकर दिल्ली रवाना हो गई।

chhatarpur news

Chhatarpur News : मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में रविवार की सुबह जब सारे दफ्तरों में अवकाश मनाया जा रहा था। तभी जिले के चन्द्रपुरा पन्ना रोड पर स्थित एनएचएआई दफ्तर में अफरा-तफरी मची थी। दरअसल दिल्ली से आई सीबीआई की एक टीम ने एनएचएआई से जुड़ी भ्रष्टाचार की एक शिकायत के मामले में रविवार को यहां जांच-पड़ताल की। यह टीम शनिवार की रात ही पहुंच गई थी। जिसने लगभग 16 घंटे तक जांच-पड़ताल के बाद एनएचएआई के डायरेेक्टर पीएल चौधरी सहित 6 लोगों से पूछताछ की और इसके बाद इन्हें हिरासत में लेकर दिल्ली रवाना हो गई। हालांकि इस पूरी कार्रवाई के संबंध में सीबीआई के अधिकारियों ने मीडिया को कोई जानकारी नहीं दी।

क्या है पूरा मामला

स्थानीय पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सीबीआई की टीम शनिवार की रात 8 बजे पन्ना रोड के अम्बेडकर नगर में रहने वाले एनएचएआई के डायरेक्टर पीएल चौधरी के घर पहुंची और यहां पहुंचकर उनसे एक शिकायत के संबंध में काफी देर तक पूछताछ करती रही। टीम ने रविवार की सुबह उनके साथ ही एनएचएआई कार्यालय जाकर कुछ दस्तावेज बरामद किए और उन्हीं की निशानदेही पर सड़क निर्माण करने वाली पीएनसी कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर ब्रजेश मिश्रा को भी हिरासत में लिया। इसके बाद एनएचएआई और पीएनसी से जुड़े शुभम जैन, अनिल जैन, सत्यनारायण अंगलूरी और प्रेम कुमार सिन्हा को भी पकड़ा गया।

शाम करीब 4 बजे सीबीआई की टीम इन सभी 6 लोगों को एनएचएआई के वाहनों में ही बैठाकर जिला अस्पताल लेकर पहुंची। यहां सभी अधिकारियों, कर्मचारियों और पकड़े गए लोगों के मेडिकल कराए गए और इसके बाद इन सभी को लेकर दिल्ली रवाना हो गई। मीडिया के बार-बार अनुरोध के बावजूद सीबीआई ने गोपनीयता का हवाला देते हुए इस कार्रवाई के संबंध में कोई स्पष्ट जानकारी नहीं दी।

छतरपुर से सुबोध त्रिपाठी की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है।वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”