शराब के नशे में वैक्सीनेशन करने पहुंचा था स्वास्थ्य कर्मी, अब हुआ मामला दर्ज

भितरवार थाना प्रभारी राजकुमारी परमार ने बताया कि कल बामरोल गाँव में एक स्वास्थ्य कर्मी शराब के नशे में वैक्सीनेशन करने पहुँचा था, उसका मेडिकल हुआ है उस पर गाली-गलौज की धारा के तहत मामला दर्ज किया गया है।

video viral

डबरा, सलिल श्रीवास्तव। कोरोना महामारी (corona pandemic) से बचाव के लिए शासन-प्रशासन बड़े स्तर पर वैक्सीनेशन अभियान (vaccination abhiyaan) चला रहा है और अधिकारी दिन-रात एक करते हुए ग्रामीण अंचल में घर-घर जाकर लोगों को वैक्सीनेशन कराने के लिए जागरुक करने का कार्य कर रहे हैं। उसके बावजूद भी कुछ कर्मी है कि उनके कारण सारे महकमे की बदनामी हो रही है। ऐसा ही एक मामला भितरवार (Bhitarwar) क्षेत्र के बामरोल गांव (Bamrol) में देखने को मिला था। जहां एक एमपीडब्ल्यू का स्वास्थ्य कर्मी (MPW health worker) शराब के नशे में वैक्सीनेशन करने पहुंच गया। वहीं ग्रामीणों ने जब उसे शराब के नशे में देखा तो जमकर हंगामा हुआ और देखते ही देखते मामले ने तूल पकड़ा और ग्रामीणों ने वैक्सीन लगवाने से मना कर दिया। इस दौरान कर्मी का ग्रामीणों ने वीडियो भी बनाया जो सोशल मीडिया पर वायरल भी हुआ था। जिसकी सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को लगी तो स्वास्थ्य कर्मी का मेडिकल कराने के लिए भितरवार भेजा और जिसके चलते आज उस पर भितरवार थाने में एफ़आईआर (FIR) दर्ज हो गई।

Read More…कोयला खदान में अवैध उत्खनन से शासन को लगाई करोड़ों की चपत, अधिकारियों की मिलीभगत से हुआ सारा खेल

क्या है पूरा मामला
आपको बता दें कि कल वैक्सीनेशन का महा अभियान था और बामरोल गांव में कैंप लगाया गया था। इसी दौरान एमपीडब्ल्यू का स्वास्थ्य कर्मी जगराम इंदौरिया शराब के नशे में वहां ड्यूटी पर पहुंच गया और वैक्सीन लगाने के कार्य में जुट गया। जब दूसरे ग्रामीणों ने उसके हाव-भाव देखें और मुंह से बदबू आते देखा तो वह समझ गए कि स्वास्थ्य कर्मी शराब के नशे में है और वह लोगों के जीवन से खिलवाड़ कर रहा है। जिसके बाद ग्रामीणों ने हंगामा कर दिया।

विवाद बढ़ते देख मामले की जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों को लगी और तत्काल तहसीलदार श्यामू श्रीवास्तव द्वारा स्वास्थ्य कर्मी का मेडिकल भी करा दिया गया। शाम होते-होते भितरवार बीएमओ ने स्वास्थ्यकर्मी के खिलाफ एक नोटिस भी जारी करा दिया। मामले की गंभीरता को देखते हुए और प्रशासनिक अधिकारियों की छवि खराब ना हो इस बात को समझते हुए अधिकारियों ने आज सुबह भितरवार थाने में स्वास्थ्य कर्मी के खिलाफ गाली-गलौज की धारा के तहत मामला दर्ज करवा दिया। इस पूरे घटनाक्रम से इतना तो तय है कि एक ओर जहां प्रशासनिक अधिकारी इस अभियान को सफल बनाने के लिए दिन रात एक किए हुए हैं तहसीलदार हो या फिर कलेक्टर सभी गांव-गांव जाकर लोगों के बीच में पहुँचकर उनसे विनम्र अनुरोध करते हुए वैक्सीन लगवाने के लिए जागरूक करने में जुटे हुए हैं, तो दूसरी ओर कुछ ऐसे कर्मचारी है जिनके कारण समूचे प्रशासनिक अधिकारियों की किरकिरी होती है। यदि बात की जाए स्वास्थ्य विभाग की तो कोरोना महामारी के दौरान सबसे ज्यादा लोगों के बीच रहकर उनकी सेवा करने का काम किसी ने किया था तो वह स्वास्थ्य कर्मियों ने किया था पर कुछ कर्मचारी अपने कर्तव्य से परे जाकर ऐसा कार्य करते हैं जिससे सारे विभाग की किरकिरी होती है।

भितरवार थाना प्रभारी राजकुमारी परमार ने बताया कि कल बामरोल गाँव में एक स्वास्थ्य कर्मी शराब के नशे में वैक्सीनेशन करने पहुँचा था, उसका मेडिकल हुआ है उस पर गाली-गलौज की धारा के तहत मामला दर्ज किया गया है।

शराब के नशे में वैक्सीनेशन करने पहुंचा था स्वास्थ्य कर्मी, अब हुआ मामला दर्ज

Read More… भोपाल में KG 2 की मासूम से रेप, आरोपी ने पोर्न देखकर किया दुष्कर्म, गिरफ्तार !