बालक की मौत के बाद परिजनों ने किया पोस्टमार्टम से इंकार, अस्पताल के बाहर हंगामा

निक्कू के परिजन पहले पथरिया में उसका प्राथमिक उपचार कराने पहुंचे और जब वह उचित इलाज न होसका तब उसे जिला अस्पताल(hospital) लेकर गए।पर जबतक इलाज हो पाता उससे पहले ही निक्कू ने दम तोड़ दिया।

दमोह, आशीष कुमार जैन। बात है दमोह जिले के पथरिया थाने के बोतराई गावं की जहाँ एक दस साल का बालक निक्कू अहीरवाल साइकिल चलाते हुए गिर गया था और उसके सर में चोट आई थी। निक्कू के परिजन पहले पथरिया में उसका प्राथमिक उपचार कराने पहुंचे और जब वह उचित इलाज न होसका तब उसे जिला अस्पताल (hospital) लेकर गए।पर जबतक इलाज हो पाता उससे पहले ही निक्कू ने दम तोड़ दिया। जब बात आई मृतक बच्चे के पोस्टमार्टम (postmartam) की तब परिजनों ने पीएम कराने से इंकार कर दिया। जिसके बाद यहाँ तमाशा खड़ा हो गया।

MP Weather Alert: मप्र में जारी रहेगा बारिश का सिलसिला, इन 11 संभागों में अलर्ट

मना करने के बाद बच्चे की लाश को गोद में लेकर परिजन अस्पताल से भागने लगे लेकिन अस्पताल पुलिस चौकी के जवानो को जैसे ही इस बात का पता चला तो वह परिजनों को रोकने के लिए पहुंचे। परन्तु परिजन किसी भी प्रकार की बात मानने को तैयार नहीं थे।इसके बाद बीच सड़क पर हंगामा होने लगा और महिलायें पुलिस से उलझ गयीं।

राहत भरी खबर: इंदौर पहुंची Amphotericin B इंजेक्शन की बड़ी खेप

हालात बेकाबू होने पर अस्पताल चौकी मेँ पदस्थ जवानो को कोतवाली से अतरिक्त स्टाफ बुलाना पड़ गया जिसके बाद बीच सड़क पर चल रहा हंगामा शांत हुआ। पुलिस अधिकारियों की समझाइश के बाद आखिरकार परिजन पोस्टमार्टम के लिए राज़ी हुए।

नगरीय निकाय चुनाव से पहले निकायों में होगी भर्ती प्रक्रिया, संविदा नियुक्ति को लेकर नियम तय

जैसा की आपको ज्ञात है की इस समय पूरे राज्य के साथ दमोह भी इन दिनों कोरोना कर्फ्यू और लाकडाउन के दौर में जिनमें कोरोना गाइडलाइन्स का पालन करना अनिवार्य है। आज बीच सड़क हुए इस सारे घटनाक्रम ने न केवल हॉस्पिटल के काम काज मेँ खलल डाला बल्कि कोविड नियमों की भी सरेआम धज्जिया उड़ाई।